ब्रेकिंग न्यूज़

वीडियोः खालिद व वामपंथियों ने किया कश्‍मीर को भारत का हिस्सा मानने से इंकार! ऐसे मिला करार जवाब!

नई दिल्ली – अभी कुछ दिन पहले रामजस कॉलेज में खालिद गैंग को लेकर हुई हिंसा पर एक समाचार चैनल द्वारा लाइव बहस का आयोजन किया गया। जिसमें बीजेपी के जाने माने और अक्सर अपने जवाबों से सामने वाले की बोलती बंद कर देने वाले प्रवक्‍ता संबित पात्रा और महिला वामपंथी एक्टिविस्‍ट कविता कृष्‍णन के बीच जबदस्त बहस हुई। संबित को अमुमन ऐसे टीबी डिबेट में बुलाया जाता है और वे जब भी देश का मुद्दा आता है अपने जवाब से सामने वाले के होश उड़ा देते हैं। Bjp leader on anti national.

वामपंथियों का जम्‍मू-कश्‍मीर भारत का अभिन्‍न अंग मानने से इंकार –

रामजस कॉलेज में हुए विवाद को लेकर 27 फरवरी को आज तक ने इस मुद्दे पर चर्चा के लिए कई नेताओं को बुलाया था। इसमें बिजेपी के प्रवक्ता संबित बहस भी शामिल थें। जब बाद राष्‍ट्रवाद की आयी तो संबित पात्रा ने जेएनयू छात्र व कन्हैया कुमार के साथ देशविरोधी नारें लगाने वाले उमर खालिद व वहां मौजूद वामपंथियों को चुनौती देते हुए कहा कि वह सिर्फ यह बोल दें कि ‘जम्‍मू-कश्‍मीर भारत का अभिन्‍न अंग है।’ इसपर वामपंथी नेता कविता ने इंकार कर दिया। फिर क्या था संबित ने इन वामपंथियों को ऐसा जवाब दिया कि वहां मौजूद सभी लोग ताली बजाने लगे। संबित ने बेहद आक्रामक लहजे में कहा, “क्‍यों नहीं बोलना पड़ेगा, बोलों कि जम्‍मू-कश्‍मीर भारत का अभिन्‍न अंग है। आप कश्‍मीर को भारत का हिस्‍सा ही नहीं मानते। देशद्रोही हैं यें।”

यह था मुद्दा, जिसपर मचा हुआ है बवाल –

दरअसल, दिल्‍ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में जेएनयू के वामपंथी विचारधारा के उमर खालिद और शहला राशिद को विरोध की संस्कृति विषय पर बोलने के आमंत्रित किया गया था। जिसको लेकर वामपंथ से जुड़े आइसा और आरएसएस समर्थित एबीवीपी के बीच मारपीट हुई और इन वामपंथियों में से कई को देशभक्ति की खुराक दि गई। इसी मुद्दे को लेकर शहीद की बेटी व डीयू स्‍टूडेंट गुरमेहर कौर ने सोशल मीडिया पर एबीवीपी के खिलाफ अभियान छेड़ दिया, जिसपर विरेन्द्र सहवाग के जवाब से मामले ने तूल पकड़ लिया। विवाद बढ़ता देख मंगलवार को गुरमेहर ने पूरे आंदोलन से खुद को अलग करने का फैसला कर लिया। इसी सारे मुद्दो को लेकर चर्चा के लिए यह पैनल बुलाया गया था।

देखें पूरी बहस का वीडियो –

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close