विशेष

स्मृति ईरानी के सामने PM मोदी बच्चों से बोले- ‘क्योंकि माँ को सास बहु देखना है…’

गणतंत्र दिवस आने ही वाला है। इस मौके पर दिल्ली के मुख्य गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में कुछ बच्चों को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से नवाजा जाएगा। इसके लिए कुछ बच्चे नामित हुए हैं। और इनसे शुक्रवार को पीएम नरेंद्र मोदी ने मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद पीएम के साथ बच्चों के फोटोज सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। इस मुलाकात में पीएम ने राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से नवाजे जाने के लिए बच्चों को बधाई दी और उन्हें आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणा बताया। तो दूसरी तरफ वो बच्चों से बातों बातों में हंसी मजाक करते हुए सास बहु वाले टीवी शो का जिक्र भी किया।

पीएम मोदी ने बच्चों से बातचीत करते हुए पानी पीने के लिए कहा। पीएम मोदी ने पानी पीने के महत्व के बारे में भी बताया और बच्चों से पूछा कि आप में से कितने लोग होंगे जो पानी को दवाई की तरह पीते होंगे। तो वहीं कुछ लोग ऐसे भी होंगे जो पानी को जूस की तरह पीते होंगे। पीएम ने पानी के महत्व पर चर्चा की और कहा कि पानी को हमेशा स्वाद लेकर ही पीना चाहिए।

इसके आगे पीएम ने कहा कि पानी को कभी भी गटगट करके नहीं पीना चाहिए। और बच्चों को कहा कि आप कभी भी पानी को गटगट कर मत पीजिए। सुकून से पीजिए। पीएम मोदी ने बच्चों को समझाते हुए कहा कि पानी शरीर के लिए फायदेमंद होता है। पीएम मोदी ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि कई बच्चे सोच रहे होंगे कि मां तो कहती हैं कि जल्दी जल्दी पानी पियो और पढ़ाई करो। और कभी मां दूध को भी जल्दी जल्दी पीने के लिए कहती होंगी कि जल्दी पीलो।  क्योंकि उनका कोई काम या सास बहु टीवी शो अधूरा न रह जाए।

पीएम मोदी की ऐसा मजाकिया अंदाज और बातें सुनकर सभी बच्चे हंसने लगे। गौरतलब हो कि जब नरेंद्र मोदी ने सास बहु टीवी शो का जिक्र किया तो स्मृति ईरानी वहीं बैठी थीं। अब ये बात तो सबको पता है कि स्मृति ईरानी और सास बहु टीवी शो का कितना गहरा नाता है। बता दें कि स्मृति ईरानी इस वक्त केंद्रीय मंत्री जरूर हैं। लेकिन राजनीति में आने से पहले वो एक मशहूर टीवी कलाकार थीं और उनका सबसे लोकप्रिय सीरीयल सास बहु था। सास बहु शो में स्मृति का जादू चलता था।

पीएम मोदी ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे देश में जो भी बच्चे अच्छा काम करते हैं, उन अच्छे कार्यों की तरंगे नीचे तक जाती हैं। अर्थात समाज की जड़ों तक ये तरंगे जाती हैं। पीएम कहते हैं कि सिर्फ नेशनल अवार्ड मिलना ही सबकुछ नहीं है। या किसी अखबार में फोटो छप जाने से ही सबकुछ नहीं होता। बल्कि जिंदगी तो बहुत बड़ी है। पीएम मोदी ने सफलता के दो रास्ते बताए। उन्होंने कहा दो रास्ते हैं। पहला रास्ता यह है कि हम जमीन पर पैर नहीं टिकने देते। इसके अलावा जो दूसरा रास्ता है वो ये कि हम अपने जीवन का एक लक्ष्य बनाते हैं। बता दें कि इन बच्चों को उनकी बहादुरी के लिए दिल्ली के गणतंत्र दिवस, 26 जनवरी के कार्यक्रम में  राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा जाएगा।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close