अध्यात्म

आज है भौमवती अमावस्या, पितरों को खुश करने के लिए करें यह शुभ काम, पितर हो जाएंगे खुश

मार्गशीर्ष यानी अगहन मास में आने वाली अमावस्या को भौमवती अमावस्या कहा जाता है। भौमवती अमावस्या इस बार 26 नवंबर के दिन यानी मंगलवार को आ रही है और इस अमावस्या के दिन भगवान श्रीकृष्ण और हनुमान जी की पूजा करने से विशेष लाभ मिलता है। ऐसा कहा जाता है कि भौमवती अमावस्या के दिन व्रत रखने से पितर दोष से मुक्ति मिल जाती है और पितरों को शांति मिलती हैं। भौमवती अमावस्या के दिन कौन-कौन से कार्य करने से शुभ परिणाम मिलते हैं, उसकी जानाकारी इस लेख में दी गई है और आप भी भौमवती अमावस्या के दिन इन कार्य को जरूर करें।

भौमवती अमावस्या के दिन जरूर करें ये काम –

पवित्र नदी में स्नान करें

भौमवती अमावस्या के दिन पवित्र नदियों में स्नान करने से पुण्य हासिल होता है और सारे पापों के बोझ से मुक्ति मिल जाती है। इसलिए आप भौमवती अमावस्या के दिन किसी भी पवित्र नदी में स्नान जरूर करें।

दान करें

हमारे शास्त्रों में दान करना सबसे महान कार्य बताया गया है। भौमवती अमावस्या के दिन दान करने से पितरों को शांति मिलती है और पितर दोष दूर हो जाता है। इसलिए आप भौमवती अमावस्या के दिन काली चीजों, जैसे तिल, काला नमक, काले कपड़ों का दान जरूर करें।

पितरों को याद करें

भौमवती अमावस्या को पितर अमावस्या के तौर पर भी जाना जाता है और इस दिन पितरों का ध्यान करने से और धूप जलाने से पितर प्रसन्न हो जाते हैं। आप गाय के गोबर से बने कंडे एक पात्र में डालकर उसके अंदर घी और गुड़ मिला दें और फिर इसे जला दें। इस धूप को आप अपने पितरों को अर्पित करें और अपने आंगने में रख दें।

हनुमान जी की पूजा करें

मंगलवार के दिन आने वाली अमावस्या को हनुमान जी की पूजा जरूर करनी चाहिए और इस बार ये अमावस्या मंगलवार को ही पड़ रही है। इस दिन आप शाम को मंदिर जाकर हनुमान जी के सामने तीन सरसों के तेल के दीपक जला दें और हनुमान चालीसा का पाठ करें। इसके अलावा आप चाहें तो सुंदरकांड का पाठ भी कर सकते हैं। हालांकि ये पाठ शाम को सात बजे के बाद ही करें।

मंगल ग्रह की पूजा करें

जिन लोगों की कुंडली में मंगल ग्रह की खराब दिशा चल रही है या ये ग्रह भारी है वो लोग इस दिन मंगल ग्रह ही पूजा करें। मंगल की पूजा शिवलिंग रूप में होती है। इसीलिए आप इस दिन शिवलिंग की पूजा करें और शिवलिंग पर लाल रंग की चीजों को जैसे लाल फूल, लाल गुलाल, लाल रंग का फल अर्पित करें। क्योंकि लाल रंग मंगल ग्रह से जुड़ा होता है और शिवलिंग पर लाल रंग की चीजे चढ़ाने से ये ग्रह शांत हो जाता है।

पीपल के पेड़ की पूजा करें

शाम के समय पीपल के पेड़ को दूध चढ़ाएं और इस पेड़ के सामने बैठकर ईश्वर का ध्यान करें। इसके बाद इस पेड़ की 7 परिक्रमा लें और इस पेड़ को लाल रंग का धागा बांध दें। ऐसा करने से आपके जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाएंगे।

अमावस्या के दिन ये काम ना करें-

अमावस्या के दिन आप भूलकर भी नीचे बताए गए कार्य को ना करें –

  • घर में क्लेश ना करे।
  • घर को गंदा ना रखें।
  • अपने माता-पिता से लड़ाई ना करें।
  • गरीब लोगों का अपमान ना करें।

Back to top button