पूजा के दौरान ये 10 काम कर लिए तो जल्दी प्रसन्न हो जाएंगे भगवान, पूरी करेंगे हर इच्छा

भगवान को प्रसन्न करने का सबसे बढ़िया तरीका उनकी सुबह शाम पूजा करना हैं. इस पूजा पाठ को करने के कई नियम और तरीके हैं. हर कोई अपना अलग तरीका पूजा करने में लगाता हैं. हालाँकि इनमे कुछ कॉमन नियम या अच्छी बातें भी होती हैं. यदि आप इन कामो को पूजा के दौरान करते हैं तो ये आपके लिए लाभकारी होते हैं. इनसे भगवान जल्दी प्रसन्न होते हैं और आपका मनचाहा फल प्रदान करते हैं. इसलिए अगली बार जब भी पूजा करे तो पहले नीचे बतलाई गई 10 बातों को दिमाग में ले आए. इनका पालन करने से आपको फल उचित और शीघ्र मलेगा. तो चलिए जान लेते हैं कि ये काम कौन से हैं.

1. पूजा से पहले पूजा का स्थान अच्छी तरफ साफ़ कर ले. अक्सर लोग दिन में एक ही बार सफाई करते हैं. पर यदि आप सुबह और शाम दोनों समय पूजा कर रहे हैं तो उस पूजा स्थल के आस पास की जगह अच्छे से साफ़ सुथरी रखे. भगवान जिस मंदिर में रखे हैं उसकी स्वच्छता का भी ध्यान रखे. साफ़ सफाई से सकारात्मक उर्जा आती हैं जबकि गंदगी नेगेटिव एनर्जी को बुलावा देती हैं.

2. पूजा शुरू करने के पांच मिनट पहले आप मेडिटेशन कर ले. यानी कि अपने दिमाग को स्थिर, शांत और पॉजिटिव कर ले. जब भी आप भगवान की पूजा पाठ करते हैं तो आपका मन पॉजिटिव होना चाहिए. मन में किसी भी तरह के गलत या बुरे विचार नहीं होना चाहिए. इसलिए पूजा में बैठने के पूर्व अपने मन को शांत अवश्य करे.

3. पूजा करते समय हमेशा सुबह और शाम दो दीपक लगाए. पहला दीपक आप आरती के लिए इस्तेमाल करे जबकि दुसरे दीपक को बिना हिलाए जलने दे. ये दोनों दीपक घी से ही लगाए. सिर्फ हनुमानजी या शनिदेव की पूजा के समय तेल के दीपक का इस्तेमाल करे.

4. पूजा में कुमकुम और चावल जैसी चीजों का इस्तेमाल जरूर करे. साथ ही चंदन का टिका भी भगवान को लगाए. इससे सौभाग्य की प्राप्ति होती हैं.

5. पूजा के मंदिर के सामने या नीचे स्वस्तिक का चिह्न बनाना शुभ होता हैं. इससे वहां का माहोल हमेशा पॉजिटिव बना ही रहता हैं.

6. पूजा और आरती समाप्त हो जाने के बाद भगवान को प्रसाद जरूर चढ़ाए. ये प्रसाद किसी भी चीज का हो सकता हैं. इस प्रसादी को घर वाले मिल जुल कर खाए. इससे परिवार में लड़ाई झगड़ें नहीं होते हैं. शान्ति बनी रहती हैं.

7. पूजा स्थल में एक कलश, शंख, घंटी जैसी चीजें अवश्य रखे. इसके अलावा आप मोरपंख और पूजा सुपारी भी रख सकते हैं.

8. पूजा पाठ हमेशा स्नान करने के बाद ही करना चाहिए. यदि आप स्नान के बाद शोच करने जाते हैं तो दोबारा स्नान करे और फिर ही पूजा करने बैठे.

9. पूजा करते समय आरती की थाली हमेशा दाहिनी तरफ यानी कि घड़ी घुमने की दिशा में ही घुमानी चाहिए. बायीं तरफ घुमाकर आरती करना गलत हैं.

10. पूजा के दौरान भगवान के चरणों में माथा टेकना ना भूले.

यदि आपको ये जानकारी पसंद आई तो इसे दूसरों के साथ साझा जरूर करे ताकि वे भी इन बातों का ध्यान रख अपनी पूजा को ज्यादा अच्छी बना सके.