ब्रेकिंग न्यूज़

पाकिस्तान में सूफी दरगाह पर ISIS का हमला, 100 की मौत!

आतंकवाद की फैक्ट्री पाकिस्तान अब खुद आतंकवाद का शिकार बनता जा रहा है. पाकिस्तान को आतंकवाद दीमक की तरह खाता जा रहा है. बृहस्पतिवार को पाकिस्तान में सूफी संत लाल शाहबाज कलंदर की दरगाह में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (ISIS) के आत्मघाती हमले में कम से कम 100 लोगों की मौत हो गई, वहीं 250 से अधिक लोग घायल हो गये.

पाकिस्तान में एक सप्ताह के अंदर यह पांचवां आतंकी हमले:

सिंध प्रांत के सहवान कस्बे में स्थित इस दरगाह में बृहस्पतिवार शाम को सूफी रस्म धमाल के चलते जायरीनों की भारी भीड़ थी,  हमलावर ‘सुनहरे गेट’ से दरगाह के भीतर दाखिल हुआ और पहले उसने ग्रेनेड फेंका, लेकिन वह नहीं फटा. पुलिस के अनुसार यह धमाका सूफी रस्म ‘धमाल’ के दौरान हुआ. विस्फोट के समय दरगाह के परिसर के भीतर सैकड़ों की संख्या में जायरीन मौजूद थे. सहवान के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने कहा कि उसने अफरा-तफरी मचाने के लिए पहले ग्रेनेड फेंका और फिर खुद को उड़ा लिया.पाकिस्तान में एक सप्ताह के अंदर यह पांचवां आतंकी हमला है.

सिंध प्रांत की पुलिस का कहना है कि हमलावर ने सेहवन शहर में स्थित सूफ़ी संत लाल शाहबाज़ क़लंदर की दरगाह पर श्रद्धालुओं के बीच ख़ुद को उड़ा दिया. प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने हमले की निंदा की है जिसकी ज़िम्मेदारी कथित इस्लामिक स्टेट ने ली है. सिंध प्रांत के आईजी ए डी ख़्वाजा ने मीडिया को बताया, ”इस धमाके की ज़िम्मेदारी भी इस्लामिक स्टेट ने ट्विटर पर ली है. हम इसकी पूरी तहकीक़ात कर रहे हैं.’’

यह दरगाह शहर से काफी दूर है. दरगाह से सबसे नजदीक स्थित अस्पताल की दूरी भी 40 से 50 किमी है. बचाव अधिकारियों ने कहा कि पर्याप्त एंबुलेंस नहीं होने की वजह से मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है. सिंध प्रांत के मुख्यमंत्री मुराद अली शाह ने तत्काल बचाव अभियान चलाने का आदेश दिया और सरकार ने हैदराबाद एवं जमशुरू जिलों के अस्पतालों में आपात स्थिति घोषित कर दी है.

हमले के बाद सरकार ने पास के जमशूरू और हैदराबाद शहरों के अस्पतालों में इमरजेंसी घोषित कर दी है. बचाव कार्य के लिए सेना ने सी130 विमान को लगा दिया है. प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने देश में सुरक्षा हालात की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय सुरक्षा बैठक की जिसमें यह फैसला लिया गया.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close