पान पराग से लेकर हमारा बजाज तक, इन विज्ञापनों को देखकर ताजा हो जाएंगी बचपन की यादें

आज के समय में टीवी पर इतने विज्ञापन आते हैं की लोग इन विज्ञापनों पर ध्यान ही नहीं देते हैं पर, जब टेलीविजन की शुरुआत हुई थी उस समय आने वाले कुछ विज्ञापनों ने खूब धूम मचाई थी. आज भी उन विज्ञापनों की यादें लोगों के दिलों में ताजा है. उन विज्ञापनों का संगीत सुनते ही वो सभी विज्ञापन याद आ जाते हैं जो उस समय टीवी पर आया करते थे. भारतीय लोक सेवा प्रसारण प्रसारण दूरदर्शन पर आने वाले इन विज्ञापनों को सभी घरों में देखा जाता था. दूरदर्शन की शुरुआत में विज्ञापन में साधारण कलाकार ही काम किया करते थे, पर विज्ञापनों की लोकप्रियता को बढ़ाने के लिए टेलीविजन एक्टरों को विज्ञापनों में शामिल किया जाने लगा. 80 के दशक में किशोर कुमार, शम्मी कपूर, कपिल देव, विनोद खन्ना जैसे कई स्टार्स ने विज्ञापनों में काम किया. जबकि 90 के दशक में सलमान खान आमिर खान जूही चावला जैसे कलाकार विज्ञापनों में नजर आने लगे. जिन लोगों का जन्म 80 के दशक में हुआ है वह आज तक इन विज्ञापनों को भूल नहीं पाए होंगे.अगर हम आपसे कहे की इसी दूरदर्शन से हम पूरी दुनिया के सभी दृश्यों को देख पाए तो इसमें कुछ भी गलत नहीं होगा. आज हम आपको दूरदर्शन के उन पांच विज्ञापनों के बारे में बताने जा रहे हैं जो टेलीविजन के शुरुआती दौर में लोगों के दिलो दिमाग पर छाए हुए थे.

पान पराग पान मसाला उसमें बारातियों का स्वागत पान पराग से किया जाता था. आपको आज तक पान पराग पान मसाला गाना याद ही होगा.

जिस समय टेलीविजन पर कौमम्प्लेन के विज्ञापन में शाहिद कपूर कहते थे “आई एम अ कॉम्प्लान बॉय” तो ऐसा महसूस होता था जैसे अचानक से लंबाई बड़ी हो गई है. घर के सभी बच्चे कौमम्प्लेन पीने की जिद किया करते थे.

बजाज स्कूटर का विज्ञापन तो आपको याद ही होगा. अब तो बजाज स्कूटर हमारे बीच नहीं है. बजाज ने स्कूटर बनाने की कंपनी ही बंद कर दी है, पर टेलीविजन के शुरुआती दौर में “हमारा कल हमारा आज बुलंद भारत की बुलंद तस्वीर हमारा बजाज” विज्ञापन ने खूब धूम मचाई थी. बजाज के विज्ञापन की वजह से कई लोगों के घरों में स्कूटर आया था. उस समय बजाज स्कूटर का प्रचलन इतना ज्यादा था की वाइक बहुत कम ही दिखाई देती थी.

सन ड्राप आयल का विज्ञापन आज तक कोई भी भूल नहीं पाया है. इस विज्ञापन में जब जलेबी और बच्चा पूरी के ऊपर कूद जाता था.

निरमा साबुन के विज्ञापन के बारे में तो आप सभी लोगों को याद होगा. इस विज्ञापन के बारे में कुछ भी बताने की आवश्यकता नहीं है. यह विज्ञापन इतने लंबे समय तक आया कि यह आदमी दिमाग से नहीं निकल पाया है. विज्ञापन को देखने के बाद निरमा वाशिंग पाउडर लोगों के दिलों में इतना छा गया कि लोग दुकान पर जाकर वॉशिंग पाउडर बोलने की जगह निरमा ही मांगते थे. उस समय निरमा के मुकाबले और कोई भी वॉशिंग पाउडर मार्केट में नहीं था.