अध्यात्म

विवाह में आ रही हैं अड़चनें तो सावन के पवित्र महीने में करें ये उपाय, दूर हो जाएंगी सारी बाधाएं

भगवान शिव को अधिक प्रिय होने की वजह से सावन महीने का अपना एक अलग ही महत्व है, जिसे हिंदू धर्म में सबसे पवित्र माना गया है। इस महीने भगवान शिव की सच्चे मन से पूजा अर्चना करने से सभी मुरादे पूरी होती हैं। इस बार सावन का महीना 17 जुलाई से शुरु होकर 15 अगस्त तक चलेगा। इस दौरान पूरा देश भगवान शिव की भक्ति में डूबा हुआ नजर आएगा। जगह जगह भगवान शिव के भक्तों के लिए पंडाल लगाए जाएंगे, जिसमें शिव भक्त आकर जलपान और आराम करते हैं। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए क्या खास है?

सावन का महीना सबसे ज्यादा पवित्र माना जाता है, जिसकी वजह से इस दौरान मांगी गई सभी मुरादे पूरी होती हैं। इतना ही नहीं, इस महीने कुंवारी कन्या मनचाहा वर पाने के लिए हर सोमवार का व्रत भी रखती हैं। इसी दृष्टिकोण से यदि किसी भी व्यक्ति के विवाह में अड़चन आ रही है, तो इस महीने कुछ उपाय करने से तमाम बाधाएं दूर हो जाती हैं और उसकी शादी जल्द से जल्द हो जाती हैं। ऐसे में यदि आपके या आपके किसी जान पहचान के व्यक्ति के विवाह में अड़चन आ रही है, तो आपको इस महीने नीचे बताए गए उपाय ज़रूर करने चाहिए।

विवाह में अड़चनें क्यों आती हैं?

किसी भी चीज़ की रुकावट या बाधाओं को दूर करने से पहले उसके कारणों के बारे में जानना ज़रूरी होता है, जिसकी वजह से हम आपको बता रहे हैं कि आखिर विवाह में अड़चनें क्यों आती हैं?

1. चन्द्रमा,शुक्र और बृहस्पति स्थिति कमज़ोर होने पर विवाह में रुकावट पैदा होती है।

2. कुंडली में मंगल दोष या फिर ग्रहण योग की वजह से विवाह में अड़चनें आती हैं।

3. सप्तम भाव अथवा सप्तमेश की स्थिति पापक्रांत होने पर जल्दी शादी नहीं होती है।

4. कुंडली के पांचों तत्वों में अग्नि अथवा वायु तत्व की मात्रा ज्यादा होने पर विवाह में रुकावट पैदा होती है।

5. अष्टम या द्वितीय भाव में पाप ग्रह होने पर भी व्यक्ति की शादी में अड़चनें आती हैं।

सावन के महीने में कैसे दूर होती हैं विवाह से जुड़ी अड़चनें?

1. सावन के महीने में जल तत्व की मात्रा ज्यादा होती है, जोकि पारिवारिक जीवन के लिए अच्छा माना जाता है।

2. मंगल या अन्य दोष को सावन के महीने में कम किया जा सकता है।

3. सावन के महीने में भगवान शिव काफी खुश होते हैं, जिसकी वजह से शादी की मुराद पूरी हो सकती है।

4. भगवान शिव और पार्वती की पूजा का फल अधिक मिलता है।

विवाह से जुड़ी अड़चनों को दूर करने का उपाय

1. सावन के महीने में ज्यादातर पीले वस्त्र ही धारण करें।

2. शिव और पार्वती को संयुक्त रुप से एक ही माला अर्पित करें।

3. यदि आपकी उम्र 18 से 24 के बीच में हो तो आपको “ॐ गौरी शंकराय नमः ” का जाप करना चाहिए।

4. यदि आपकी उम्र 25 से 30 हो तो आपको “ॐ पार्वतीपतये नमः” का जाप करना चाहिए।

5. यदि आपकी उम्र 30 से ज्यादा हो तो आपको “ॐ नमः शिवाय” का जाप करना चाहिए।

6. आपको शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ाते हुए ऊपर बताए गए मंत्र का जाप करना चाहिए।

7. बता दें कि सावन के महीने में निरंतर भगवान शिव और पार्वती की पूजा अर्चना करनी चाहिए।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close