सगी बहनों की तरह प्रेम से रह सकती हैं देवरानी-जेठानी, बस करने होंगे ये 5 काम इन बातों का ध्यान रखोगे तो देवरानी जेठानी में कभी झगड़ा नहीं होगा

देवरानी और जेठानी दो ऐसी महिलाएं होती हैं जो अलग परिवार और बैकग्राउंड से आती हैं, लेकिन शादी के बाद एक साथ एक ही छत के नीचे रहती हैं. जिस तरह से सास बहू की लड़ाइयां बदनाम हैं उसी तरह से देवरानी और जेठानी के झगड़े भी बहुत सुनने को मिलते हैं. अक्सर देखा जाता हैं कि इन दोनों के बीच कुछ ख़ास बनती नहीं हैं. कई बार तो इनकी वजह से परिवार का बटवारा तक हो जाता हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ आसान टिप्स को अपना कर देवरानी और जेठानी भी आपस में सगी बहनों की तरह रह सकते हैं. इस बात से फर्क नहीं पड़ता हैं कि आप एक ही घर में साथ रहते हो या फिर अलग अलग लेकिन एक बात हमेशा याद रखना कि आप दोनों ही एक परिवार को प्रेजेंट करते हो. इसलिए इस परिवार की एकता और मान सम्मान को बरकरार रखना आपकी ड्यूटी भी बन जाती हैं. ऐसे में आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताएंगे जिससे देवरानी जेठानी आपस में प्रेम मोहब्बत से रह सकती हैं.

एक दुसरे की सुने बाकी लोगो की नहीं

हर परिवार में कोई ना कोई ऐसा जरूर होता हैं जो सबको आपस में लड़ाने का काम करता हैं. फिर जब व्यक्ति किसी की बुराई करता हैं तो मिर्च मसाला लगाकर ही बताता है. इसलिए यदि कोई आप से कहता हैं कि आपकी देवरानी या जेठानी आपके बारे में फलाना ढिंका कह रही थी तो आप उसकी बातों पर यकीन ना करे. बल्कि डायरेक्ट अपनी देवरानी या जेठानी के पास जाए और बात क्लियर कर ले. आप सामने वाले की भावनाओं को भी समझे कि आखिर उसे क्या दिक्कत हैं और क्यों हैं.

सब कुछ करे एक साथ

एक दुसरे को ठीक से समझने का बेस्ट तरीका हैं कि आप साथ में समय बिताए. हर महिला को शॉपिंग करने का बड़ा ही शौक होता हैं. ऐसे में आप दोनों साथ में जा सकते हैं. इससे आपके बीच का रिश्ता मजबूत होगा. घर के काम भी आप यदि मिलजुल कर करते हैं तो लड़ाई झगड़े का चांस ही नहीं मिलेगा. खाली समय में अपने अलग कमरे में घुस के ना बैठे रहे बल्कि साथ में मिल गप्पे मारे, फ़िल्में देखे या कुछ और मस्ती कर ले. ये सभी काम आपके बीच प्रेम को बढ़ाएंगे.

मान सम्मान और बराबरी

अधिकतर लोगो को ये ग़लतफ़हमी होती हैं कि घर में जेठानी बॉस होती है और उसके बाद ही देवरानी का नंबर आता हैं. जेठानी चाहे आप से पहले से उस घर में रह रही हो लेकिन देवरानी का भी उस घर पर उतना ही अधिकार होता हैं. ये बात देवरानी और जेठानी दोनों को समझना चाहिए और आपस में मिल जुल कर और बराबरी के अधिकार के साथ रहना चाहिए. यदि आप मैं तुझ से बेहतर हूँ के कांसेप्ट में उलझे रहोगे तो कभी शान्ति से नहीं रह पाओगे.

दिल से परवाह

घर में जब माँ या बहन बीमार हो जाती हैं तो हम उसकी सेवा करते हैं, काम में हाथ भी बटाते हैं. बस इसी सोच के साथ आप अपनी देवरानी और जेठानी का भी ख्याल रखे. यदि आप उसे अपनी बहन दिल से मान लोगे और उसकी बहुत केयरिंग करोगे तो सामने वाली भी आप से प्रेम करने लगेगी.

निजी मामले में टांग ना अड़ाए

वैसे तो आप दोनों को एक दुसरे के साथ हमेशा रहना चाहिए और सारी बातें भी करनी चाहिए, लेकिन कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिससे आपको दूर ही रहना चाहिए. खासकर निजी मामलो में आपको दखलअन्दाजी नहीं करना चाहिए. इसके साथ ही देवरानी जेठानी से इतना भी ना चिपके कि उसका सांस लेना भी मुश्किल हो जाए.