अध्यात्म

502 साल बाद बुद्ध पूर्णिमा पर बन रहा है ये दुर्लभ संयोग,इस दिन जरूर करें ये काम मिलेगा विशेष फल

502 सालों बाद बुद्ध पूर्णिमा के दिन दुर्लभ योग बन रहा है और इस योग के तहत मंगल-राहु ग्रह मिथुन राशि में रहेंगे और उनके ठीक सामने शनि-केतु धनु राशि में स्थित होंगे। बताया जा रहा है कि इससे पहले ये दुर्लभ योग 16 मई 1517 में बना था और अब ये दुर्लभ योग 205 साल बाद यानी साल 2224 में आएगा।

वैशाख मास की पूर्णिमा में भगवान गौतम बुद्ध का जन्म हुआ था और इस दिन को बुद्ध पूर्णिमा के रुप में मनाया जाता है। इस साल बुद्ध पूर्णिमा 18 मई के दिन आ रही है और इस बुद्ध पूर्णिमा पर समसप्तक संयोग बन रहा है। इसके अलावा आज के दिन रात 02 बजकर 22 मिनट तक विशाखा नक्षत्र भी है।

बुद्ध पूर्णिमा के दिन जरूर करें ये काम-

करें पूजा और चीजों का दान

बुद्ध पूर्णिमा के दिन दान करने का काफी महत्व होता है। ऐसा कहा जाता है कि इस दिन दान करने से जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं और इंसान को उसके पापों से मुक्ति मिल जाती है। आप बुद्ध पूर्णिमा के दिन सुबह जल्दी उठकर सबसे पहले स्नान करें और हो सके तो अपने स्नान के पानी में गंगा जल भी मिला लें।

नहाने के बाद आप भगवान विष्णु की पूजा करें। क्योंकि ऐसा माना जाता है कि गौतम बुद्ध भगवान विष्णु के ही अवतार हैं। भगवान विष्णु की पूजा करने के दौरान आप पूजा स्थल पर उन सभी चीजों को भी जरूर रख लें जो आप गरीब लोगों को दान करने वाले हैं। पूजा करते समय आप सबसे पहले भगवान विष्णु को मीठी चीज का भोग लगाएं और उनके सामने घी का दीपक जलाएं, फिर भगवान विष्णु की पूजा शुरू कर दें।

पूजा खत्म होने के बाद आप भगवान विष्णु से आशीर्वाद लें और उनके सामने रखे गए दान के सामान को गरीबों में बांट दें। बुद्ध पूर्णिमा के दिन दान करने से आपका भाग्य एकदम खुल जाएगा और आपको हर क्षेत्र में कामयाबी मिलना शुरू हो जाएगी।

कौन सी चीजें करें दान

बुद्ध पूर्णिमा के दिन मीठी चीजों का दान करने से विशेष लाभ मिलता है। इसलिए आप इस दिन हो सके तो मीठा चीजें, जैसे चीनी, मिठाई, गुड़ का दान जरूर करें। आप इन चीजों के अलावा काले तिल और सरसों के तेल का भी दान कर सकते हैं। दान करने के अलावा इस दिन गरीब लोगों को भोजन करवाने से भी भगवान की विशेष कृपा बनती है। इसलिए आप चाहें तो इस दिन मंदिर के बाहर बैठे गरीब लोगों को खाना भी खिला सकते हैैं।

करें बोधि वृक्ष की पूजा

बुद्ध पूर्णिमा के दिन आप शाम के समय बोधि वृक्ष की पूजा भी जरूर करें। बोधि वृक्ष की पूजा करने हेतु आप एक लोटे में जल और दूध को डाल दें और फिर इसे पेड़ की जड़ों पर चढ़ा दें। इस जल को चढ़ाने के बाद आप पेड़ के सामने एक तेल या घी का दीपक भी जला दें।

ना करें ये काम

बुद्ध पूर्णिमा के दिन आप केवल शाकाहारी खाने का ही सेवन करें।

किसी भी बुजुर्ग इंसान का अपमान ना करें।

ना ही किसी जानवर को दुख पहुंचाएं।

Back to top button