नई दिल्ली – नए आर्मी चीफ बिपिन चंद्र रावत ने आज अपनी पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में असंतुष्ट जवानों के विडियो, पाकिस्तान की ओर से सीजफायर उल्लंघन, ईस्टर्न आर्मी कमांड के प्रमुख के साथ मतभेद समेत कई मुद्दों पर बातचीत की। पाकिस्तान की ओर से लगातार हो रहे सीजफायर उल्लंघन पर आर्मी चीफ ने कहा कि, ‘सीजफायर उल्लंघन के मामलों में अगर कमी नहीं आई तो सर्जिकल स्ट्राइक जैसे कदम फिर उठाया जा सकता है।’ उन्होंने यह भी कहा कि असंतुष्ट जवानों द्वारा अपनी बात को सोशल मीडिया पर ले जाने की जरूरत नहीं है। Army chief on jawan video.

सोशल मीडिया नहीं, शिकायत पेटी का करें इस्तेमाल –

सेना प्रमुख ने पिछले कुछ दिनों से सामने आ रहे सीमा पर तैनात जवानों के शिकायती वीडियो पर कहा कि जवानों को ऐसे मुद्दे सेना के भीतर ही उठाने चाहिए। बिपिन चंद्र रावत ने कहा कि ‘जिस किसी को भी शिकायत है, वह मुझसे सीधे बात कर सकता है।’ गौरतलब है कि कुछ दिन पहले एक बीएसएफ जवान का वीडियो सामने आने के बाद कुछ और जवानों ने भी तनख्वाह, खाने और पोस्टिंग के दौरान खराब प्रबंध के बारे में कई वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किये हैं। सेना प्रमुख ने कहा कि सेना मुख्यालयों पर शिकायत और सुझाव पेटी होती है और जवानों से निवेदन है कि वह उसका इस्तेमाल करें।

मीडिया की भूमिका सेना का उत्साह की है –

रावत ने कहा कि मीडिया में वह शक्ति है जो सेना का उत्साह बढ़ा सकती है, हमारा देश कई सुरक्षा चुनौतियों से सामना कर रहा है। उन्होंने मीडिया के रोल की तारीफ करते हुए कहा, ‘मीडिया आम जनता को देश और सेना के बारे में सूचनाएं देने का काम करती है। जिसमें ऐसे कई पल आते हैं जब मीडिया और सेना के बीच सहमति तो कभी असहमती होती है। ऐसे मामले में आम सहमति बनना जरूरी है।’ सेना प्रमुख ने आगे क‍हा कि मैं हर जवान से कहना चाहता हूं कि हम सब मिलकर एक मजबूत सेना बनाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!