भोलेनाथ एवं माँ लक्ष्मी का ये उपाय करे एक साथ, कभी नहीं होगी धन की कमी शिवजी और माता लक्ष्मी का ये उपाय करेगा धन की कमी दूर

पैसा जितना भी हो, हमेशा कम ही लगता हैं. इंसानी फितरत ही कुछ ऐसी होती हैं कि हर कोई जीवन में ज्यादा से ज्यादा पैसा हासिल करना चाहता हैं. हालाँकि इसे पाने के लिए आपके भाग्य का प्रबल और दुर्भाग्य का कमजोर होना आवश्यक होता हैं. आप चाहे कितने भी हुनरमंद हो और बहुत मेहनत भी करते हो लेकिन जब तक आपका भाग्य आपका साथ नहीं देगा और दुर्भाग्य आपका पीछा नहीं छोड़ेगा, तब तक आपकी लाइफ में पैसो की आवक बढ़ना शुरू नहीं हो सकेगी. यदि आप अपनी पैसो की तंगी से परेशान हैं या अपनी वर्तमान धन संपत्ति को बढ़ाना चाहते हैं तो बिलकुल सही जगह आए हैं. आज हम आपको एक ऐसा उपाय बताने जा रहे हैं जिसे आजमाने के बाद आपको जीवन में कभी धन की कमी का सामना नहीं करना पड़ेगा.

दरअसल आज के इस उपाय में आपको भोलेनाथ और माँ लक्ष्मी को एक साथ प्रसन्न करना होगा. जैसा कि आप सभी जानते हैं माँ लक्ष्मी को धन की देवी के रूप में जाना जाता हैं. हिंदू शास्त्रों के अनुसार जो व्यक्ति माता लक्ष्मी को खुश कर देता हैं उसका भाग्य धन संबंधित मामलो में प्रबल हो जाता हैं. ऐसे व्यक्ति को हमेशा धन प्राप्त होता रहता हैं. वहीं दूसरी और भगवन शिव को भक्तों के दुःख दर्द दूर करने के लिए जाना जाता हैं. इन्हें प्रसन्न करने से आपकी बुरी किस्मत ख़त्म हो जाती हैं. इस तरह यदी आप इन दोनों देवी देवताओं की एक साथ आराधना करेंगे तो आपका भाग्य प्रबल और दुर्भाग्य कमजोर हो जाएगा. ये स्थिति आपके जीवन में अधिक ऐसा लाने के लिए सटीक होती हैं. तो चलिए फिर बिना किसी देरी के इस उपाय के बारे में जान लेते हैं.

इस उपाय को आप सोमवार या शुक्रवार में से किसी भी दिन कर सकते हैं. इसके लिए आप सबसे पहले स्नान कर स्वच्छ हो जाए. अब एक लाल रंग के कपड़े के ऊपर माता लक्ष्मी और शिवजी की प्रतिमा रख दे. यहाँ आपको दोनों के सामने एक – एक घी के दीपक प्रज्वलित करना हैं. इसके साथ ही पास में 9 अगरबत्ती लगा दे. अब एक ताम्बे का लौटा ले और उसमे एक रुपए का सिक्का डाल दे. अब इस पात्र में स्वच्छ जल भर दे और इसके ऊपर श्रीफल (नारियल) रख दे. इसके पश्चात पहले शिवजी की आरती करे और फिर माता लक्ष्मी की आरती करे.

आरती समाप्त होने के बाद दोनों देवी देवताओं के चरण स्पर्श कर माथा टेके. अब इन्हें अपने भाग्य को प्रबल करने और दुर्भाग्य को दूर भगाने की विनती करे. जब दोनों के समीप रखे दीपक स्वतः ही बुझ जाए तो इनकी प्रतिमाओं को वापस अपने स्थान पर रख दे. नारियल को फोड़कर प्रसाद स्वरुप घर के सभी सदस्य ग्रहण कर ले. लौटे के अंदर जो सिक्का डाला था उसे लाल कपड़े के अंदर रख बाँध दे. अब इस कपड़े को घर की तिजोरी या पूजा घर में रहने दे. इससे आपके घर की बरकत बढ़ेगी. वहीँ लौटे के अंदर का पानी पुरे घर में छिड़क दे. इससे आपका घर पॉजिटिव उर्जा से भर जाएगा और दुर्भाग्य आपको छू भी नहीं पाएगा.