विशेष

शादी से कुछ दिनों पहले ही युवक ने करवाया अपना अपहरण, सच पता चला तो पुलिस को यकीन न हुआ

आप लोगों ने प्यार से जुड़े ऐसे कई सारे किस्सों के बारे में सुना होगा, जहां पर अपने प्यार से शादी करने के लिए लोग किसी भी हद तक चले जाते हैं और अपने प्यार को पाने के लिए समाज और अपने घरवालों के भी खिलाफ हो जाते हैं। हाल ही में एक युवक ने भी ऐसा ही कुछ किया है और इस युवक ने अपनी गर्लफ्रेंड से शादी करने के लिए खुद का ही अपहरण करवा लिया। दरअसल इस युवक की शादी इसके घरवालों ने कहीं और तय कर दी थी और ये अरैंज मैरेज नहीं करना चाहता था। अरैंज मैरेज से बचने के लिए और अपनी गर्लफ्रेंड से शादी करने के लिए इस युवक ने खुद का अपहरण करने की योजना बनाई।

क्या है पूरा मामला

बताया जा रहा है कि रवि सिंह उत्तर प्रदेश के झांसी का रहने वाला है और ये दिल्ली में नौकरी करता है। दिल्ली में इसकी मुलाकात एक लड़की से हुई और ये उससे प्यार करने लगा। रवि की गर्लफ्रेंड दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करती है और रवि एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर है। मगर 31 साल के रवि सिंह की शादी उसके घरवालों ने कहीं और तय कर दी और रवि ये शादी नहीं करना चाहता था।

पुलिस के अनुसार रवि सिंह दिल्ली के एक पीजी में रहा करता है।अपनी शादी होने से कुछ दिनों पहले ही रवि अपने पीजी के दोस्तों से ये बोलकर पीजी से निकला था कि ये अपनी शादी के लिए झांसी जा रहा है। लेकिन रवि झांसी नहीं गया और इसने अपने पिता और भाई के फोन पर एक मैसेज भेजकर उन्हें अपने अपहरण होने की जानकारी दी। इतना ही नहीं रवि ने अपने घरवालों से फिरौती के तौर पर 5 लाख रुपए भी मांग। बेटे के अपहरण की खबर सुनकर रवि की मां की तबीयत खराब हो गई और मां को अस्पताल में दाखिल करवाना पड़ा। जबकि रवि के पिता ने रवि के भाई के साथ मिलकर गुरुग्राम पुलिस में अपने बेटे के अपहरण होने की शिकायत दर्ज करवा दी। पुलिस ने केस दर्ज करते ही रवि की तलाश शुरू कर दी। जिस नंबर से रवि के पिता को मैसेज भेजा गया था पुलिस ने उस नंबर की पड़ताल से ही अपनी जांच की  शुरूआत की।

ऐसे हुआ रवि का पर्दाफाश

पुलिस के अनुसार जिस तरह का मैसेज रवि ने अपने घरवालों को भेजा था और उसको पढ़कर पुलिस को शक हुआ था। शक होने के बाद गुरुग्राम की पुलिस ने फोन नंबर को ट्रैक करके इस अपहरण की जानकारी चंडीगढ़, हरिद्वार, जम्मू, दिल्ली और कुरुक्षेत्र पुलिस को भी दी। वहीं काफी मेहनत करने के बाद पुलिस के हाथ रवि लग सका। पुलिस के मुताबिक रवि अपने कपड़े लेने के लिए जिस समय अपने पीजी आया था उसी दौरान उसको पकड़ा गया था।

पुलिस के अनुसार उन्हें इस झूठे अपहरण के केस के चलते खूब मेहनत करनी पड़ी और पुलिस को कई राज्यों में जाना पड़ा। कहा जा रहा है कि अपने अपहरण को अंजाम देने के पीछे रवि का मकसद अपनी अरैंज मैरेज को रोकना था और अपनी दिल्ली वाली गर्लफ्रेंड से शादी करना था।

Back to top button