नई दिल्ली –  महीनों की तनातनी और यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की खुलेआम बगावत के बाद दो टुकड़े होने के कगार पर खड़ी समाजवादी पार्टी में आखिरकार आज दरार आ ही गई। इस समय की बड़ी खबर है कि समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष मुलायम सिंह यादव ने मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव को पार्टी से 6 साल के लिए निकाल दिया है। चुनाव के मुहाने पर खड़े उत्तर प्रदेश की राजनीति के लिए यह वाकई में एक चौकाने वाला फैसला है। Akhilesh yadav sacked from SP.

Akhilesh yadav sacked from SP

मुलायम बोलेः अखिलेश ने किया पार्टी विरोधी काम –

इस तरह यूपी के सीएम अखिलेश यादव को पार्टी से निकाले जाने पर मुलायम यादव ने कहा कि अखिलेश को अनुशासन हीनता के चलते पार्टी से निकाला गया है। मुलायम ने कहा, “जो भी पार्टी विरोधी काम करेगा उस पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई कि जाएगी, पार्टी में अनुशासन बनाए रखना पहली प्राथमिकता है।” सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव और यूपी प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव की ओर से यूपी विधानसभा के लिए टिकट बंटवारे में करीबियों का पत्ता साफ होने से अखिलेश काफी खफा थें।

 

मुलायम से मिले सीएम अखिलेश व शिवपाल –

गौरतलब है कि गुरुवार को अखिलेश यादव और उनके चाचा व सपा के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने सपा प्रमुख से मुलाकात की थी। इस मुलाकात को लेकर ऐसा माना जा रहा हा कि अखिलेश ने अपना विरोध दर्ज कराया था। इसके पहले गुरुवार की सुबह से ही लखनऊ में सपा कार्यकर्ताओं और प्रत्याशी जुटने लगे। अखिलेश ने विधायकों के साथ मीटिंग की। सीएम अखिलेश के आवास पर सांसद धर्मेंद्र यादव और मंत्री बलराम यादव भी पहुंचे वहीं अरिवंद सिंह गोप और अभिषेक मिश्र ने भी मुलाकात की। दरअसल, अखिलेश ने 235 उम्मीदवारों की नयी लिस्ट जारी की जिसके इसके जवाब में देर रात शिवपाल यादव ने मुलायम से मीटिंग के बाद 68 कैंडिडेट्स की एक और लिस्‍ट जारी कर दी जिसे समाजवादी पार्टी में दो-फाड़ के तौर पर देखा जा रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.