मुख्य समाचार

जाने कैसे विडियो में ISIS ने दी भारत को धमकी, ‘हाथ में तलवार लेकर लेंगे बाबरी और गुजरात का बदला’

आतंकी संगठन आईएसआईएस ने एक खौफनाक वीडियो जारी किया है। जो बताता है कि भारत को लेकर उसके मंसूबे कितने खतरनाक हैं। इस वीडियो में भारत से भर्ती किए गए नौजवान जेहादियों के बयान हैं जो अपनी कहानी खुद बता रहे हैं। वो बता रहे हैं कि भारत से किस तरह वो सीरिया पहुंचे और किस तरह अपने खलीफा बगदादी के राज में वो इस्लामी जिंदगी बसर कर रहे हैं। इस वीडियो में वो बता रहे हैं कि उनकी योजना भारत में भी इस्लामी राज कायम करने की है।

अब तक आईएसआईएस में भारतीय नौजवानों के शामिल होने की सिर्फ बातें सुनी जाती थीं, लेकिन पहली बार वो बोलती तस्वीरें सामने आई हैं जो बताती हैं कि आईएसआईएस में उनकी पैठ कितनी गहरी है और अब वो दूसरे भारतीय नौजवानों को अपने बयानों से बरगलाने में लगे हैं। इस वीडियों में 2014 में मुंबई से भागकर आईएस ज्वाइन करने वाला इंजीनियर फहद तनवीर शेख भी नजर आ रहा है। उसने अपना नाम अबु-अमर-अल हिंदी कर लिया है। वीडियो में वो धमकी के लहजे में कहता दिख रहा है कि हम वापस आ रहे हैं।

पहली बार हिंदी में बोलते दिखे बगदादी के गुर्गे, वीडियो से बताया अपना इंडिया प्लान!

आतंकी संगठन आईएसआईएस ने एक खौफनाक वीडियो जारी किया है। जो बताता है कि भारत को लेकर उसके मंसूबे कितने खतरनाक हैं।

22 मिनट का ये वीडियो अरबी में है, लेकिन बीच-बीच में उसमें हिंदुस्तानी जबान बोलते हुए भारतीय नौजवान नजर आ रहे हैं। आतंकी संगठन का ये पहला ऐसा वीडियो है, जिसमें सिर्फ भारत और साउथ एशिया को ही फोकस किया गया है। जैसे हर आतंकी संगठन बाबरी मस्जिद, कश्मीर, गुजरात और मुजफ्फरनगर की घटनाओं का बदला लेने की बात करता है इसमें भी वही किया गया। अबू अमर अल हिंदी दावा करता है कि सीरिया में वो लोग चैन की जिंदगी बसर कर रहे हैं। वो ठाणे के अपने दोस्त साहिम टंकी को याद करता भी नजर आता है। टंकी सीरिया में पिछले साल मारा गया था।

शुक्रवार को रिलीज किए गए इस वीडीयो में कुल 6 आतंकी पेश किए गए हैं जो अलग-अलग तरह की बातें करते हैं। लेकिन इनका असल फोकस तमाम दुनिया में इस्लाम का राज कायम करने पर है। अजब बात है कि हिंदुस्तान के तमाम उलमा इस्लाम को अमन का मजहब करार देते हैं। लेकिन खुद को जिहादी कहने वाले ये आतंकी इस्लाम को ये कह कर बदनाम करते हैं कि वो कहीं से अमन का मजहब नहीं है।

दिल्ली के बटला हाउस एनकाउंटर के फरार आतंकी भी आईएसआईएस में शामिल हुए और इंडियन मुजाहिदीन के आतंकी भी आईएसआईएस का हिस्सा हो सकते हैं। इसकी पुष्टि एक आतंकी के बयान से होती है जो बताता है कि वो बटला हाउस से फरार होकर अफगानिस्तान से होता हुआ सीरिया पहुंचा। एक आतंकी को अंग्रेजी में भी बोलते हुए दिखाया गया है जो गैर मुस्लिमों को धमकी देते हुए कहता है कि उनके पास बस तीन ही रास्ते हैं। इस्लाम कबूल करें, जजिया दें या फिर मरने के लिए तैयार रहें।

आईएसआईएस ने भारत के मुस्लिम नेताओं पर भी निशाना साधा है। कहा गया है कि वो उस सिस्टम के साथ हैं, जो मुसलमानों पर हो रहे जुल्म के लिए जिम्मेदार हैं। असदुद्दीन औवेसी और बदरुद्दीन अजमल की तस्वीरें भी नजर आती हैं। इन पर आरोप लगाया गया है कि वो गैर मुस्लिम नेताओं के साथ मिले हुए हैं। एक फोटोग्राफ में कांग्रेसी नेता मणि शंकर अय्यर एक हिंदू और एक मुस्लिम नेता के साथ नजर आते हैं।

फहद शेख के अलावा इस वीडियो में किसी और शख्स की पहचान नहीं हो सकी है, लेकिन इनकी जबान से ये साफ है कि ये सारे हिंदुस्तानी ही हैं। वीडियो को समंदर के किनारे शूट किया गया है। एक जगह दो नावों में बैठ कर जंग के लिए जाते आतंकियों को दिखाया गया है। लेकिन भारत से भाग कर सीरिया गए एक भी आतंकी को जंग करते नहीं दिखाया गया है। वीडियो का अंत भी धमकी से होता है जिसमें एक आतंकी मुंबई , दिल्ली , जयपुर वगैरह के धमाकों की याद दिलाता है।

Related Articles

Close