जानिए कौन थी भगवान शिव जी की तीन बेटियां और उनके जन्म से जुड़ी कथा भगवान शिव जी के थे छह बच्चे जिनमें से थी इनकी तीन बेटियां, भारत के कई हिस्सों में की जाती है शिव जी की बेटियों की पूजा

भगवान शिव जी के कुल छह बच्चे थे और इन छह बच्चों में से शिवजी की तीन बेटियां और तीन बेटे हुए करते थे. शिवजी के इन बच्चों के बारे में हमारे पुराणों में जिक्र मिलता है.  शिव पुराण में शिव जी के इन बच्चों के जन्म से जुड़ी कथा मौजूद हैं. शिव पुराण के अनुसार शिवजी और पार्वती की कुल छह संतान थी जिसमें से पार्वती ने दो पुत्री को जन्म दिया था. शिवजी की इन तीनों पुत्रियों के नाम अशोक सुंदरी,ज्‍योति और मनसा है. शिवजी की इन तीनों पुत्रियों के कई सारे मंदिर भारत में मौजूद हैं जहां पर इनकी पूजा की जाती है. वहीं शिवजी की इन पुत्रियों का जन्म कैसे और कहां हुआ था उससे जुड़ी कथा इस प्रकार है

ज्‍योति के जन्म से जुड़ी कथा

शिव जी की पहली बेटी का नाम ज्योति था और इनको ज्‍वालामुखी देवी के नाम से भी जाना जाता है. ज्योति के जन्म से जुड़ी कथा के अनुसार इनका जन्म भगवान शिव के तेज से हुआ था. ज्योति के जन्म से जुड़ी दूसरी कथा के मुताबकि इनका जन्म शिवजी के तेज से नहीं बल्कि मां पार्वती के तेज से हुआ था. शिव और पार्वती की बेटी ज्‍वालामुखी देवी को तमिलनाडु में खूब माना जाता है और इस राज्य में इनके कई मंदिर मौजूद हैं.

अशोक सुंदरी के जन्म से जुड़ी कथा

कहा जाता है कि पार्वती मां को एक पुत्री की इच्छा थी और वो अपना अकेलापन दूर करने के लिए एक बेटी चाहती थी. इसलिए मां पार्वती ने एक बेटी को जन्म दिया था और मां पार्वती ने अपनी इस बेटी का नाम आशोक सुंदरी रखा. आशोक सुंदरी से जुड़ी एक कथा के अनुसार जब शिवजी ने बालक गणेश का सिर काटा था तो ये डर कर नमक की बोरी में जाकर छुप गई थी. वहीं भारत के गुजरात राज्य में आशोक सुंदरी के कई सारे मंदिर मौजूद हैं. जहां पर इनकी पूजा की जाती है और इनकी पूजा करने के लिए नमक का इस्तेमाल किया जाता है.

मनसा के जन्म से जुड़ी कथा


शिव जी की तीसरी पुत्री का नाम मनसा था और मनसा को पार्वती ने जन्म नहीं दिया था. मनसा के जन्म से जुड़ी कथा के अनुसार इनकी उउत्पत्ती शिव जी के जरिए हुई थी. कहा जाता है कि मनसा काफी गुस्से वाली हुआ करती थी और इनको वासुकी के नाम से भी जाना जाता है. भारत के कई राज्यों में मनसा देवी के कई सारे मंदिर मौजूद हैं. भारत के कई हिस्सों में इनकी पूजा बिना इनकी किसी प्रतिमा को रखे की जाती है और इनका पूजा मिट्टी का घड़ा या  मिट्टी का सांप बनाकर की जाती है. जब किसी व्यक्ति को सांप काट लेता है या फिर किसी को चिकन पॉक्‍स होता है तब मनसा की पूजा की जाती है. पश्चिम बंगाल में इन माता को ज्यादा माना जाता है.

शिव जी की तीन पुत्री होने के अलावा जो तीन बेटे थे उनका नाम गणेश, कार्तिकेय और सुकेश है. हालांकि और कथा के अनुसार शिव के कुल छह पुत्र थे. जिनके नाम गणेश, कार्तिकेय, सुकेश,जलंधर,अयप्पा और भूमा हैं.