विशेष

आतंकवाद के खिलाफ भारत का साथ देगा उसका जिगरी दोस्त इजरायल, इजराइल चाहता है कुछ ऐसा

पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए आतंकी हमले के बाद पूरा देश एक साथ खड़ा हो गया है. सभी विपक्ष दल के नेता, बॉलीवुड, खेल जगत या फिर आम आदमी सभी एक होकर आतंक का सफाया करना चाहते हैं. अमेरिका, रूस, ब्रिटेन जैसे कई बड़े देश भारत के समर्थन में खड़े हैं वहीं अब इस समर्थन में इजरायल ने भी कदम बढ़ाया है. इजरायल ने भारत को विशेष रूप से आतंकवाद से अपना बचाव करने के लिए बिना शर्त के मदद करने पर जोर दिया है. उनकी सहायता की कोई सीमा नहीं है और इजराइल का ये आश्वासन है कि वो किसी भी कीमत पर भारत का साथ देगा आतंक का सफाया करने में. आतंकवाद के खिलाफ भारत का साथ देगा उसका जिगरी दोस्त इजरायल, अब लोगों के मन में एक सवाल है कि आखिर बिना किसी स्वार्थ के वो भारत की मदद क्यों करना चाहता है ?

आतंकवाद के खिलाफ भारत का साथ देगा उसका जिगरी दोस्त इजरायल

इजराइल का ये आश्वासन इस बढ़ती मांग की के लिए खास है कि सरकार आतंकी हमलों से निपटने के लिए इजराइली पद्धति पर विचार करे. भारत में इजराइल के नये राजदूत डॉ रॉन मलका की टिप्पणी आई जब उनके सामने एक सवाल आया कि उनका देश आतंकवाद से पीड़ित भारत की किस सीमा तक मदद करता है. पिछले 14 फरवरी को जम्मू कश्मीर में एक भीषण आतंकवादी हमले में भारत के 40 जवा शहीद हुए हैं और इस आतंकवादी हमले को पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्द ने अंजाम दिया था. इस आतंकवादी हमले के बाद इस मांग ने जोर पकड़ लिया कि सरकार को आंतकवाद के खिलाफ अभियान के लिए इजराइल जो तरीके अपनाता है उसपर गौर करना चाहिए. जैसा की सबको पता है कि इजराइली सेना अपनी सटीक और तुरंत कार्यवाही करने के लिए पूरी दुनिया मशहूर है.

मलका ने पिछले हफ्ते पीटीआई के साथ हुई एक मीटिंग में कहा, ‘भारत को अपनी रक्षा के लिए जो जरूरी है उसकी कोई सीमा नहीं है. हम अपने करीबी दोस्त भारत को विशेण तौर पर आतंकवाद के खिलाफ बचाव करने के लिए हम तैयार हैं क्योंकि आतंकवाद सिर्फ भारत की ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया की समस्या है.” उन्होंने इस बात पर जोर दिया है कि हमें अब आतंकवाद से लड़ना चाहिए और इसे खत्म करना चाहिए. मलका ने कहा, ”हम भारत की मदद इसलिए करना चाहते हैं कि आतंकवाद का सफाया हो और हम अपनी ये जानकारी आपके साथ शेयर कर रहे हैं. अपनी तकनीक शेयर करते हैं क्योंकि हम सच में अपने महत्वपूर्ण मित्र देश भारत की दिल से मदद करना चाहते हैं.”

इजराइल के दूत चाहते हैं कुछ ऐसा

इजराइल के राजदूत डॉ. मलका ने कहा कि उनके देश का पाकिस्तान के साथ कोई खास संबंध नहीं है और इसलिे उनके साथ किसी भी गतिविधि में दो पक्षों में बातचीतन हीं होगी. भारत को मजबूत करके, इजराइल वैश्विक स्तिरता में योगदान दे रहा है क्योंकि वैश्विक स्थिरता में भारत की भी महत्वपूर्ण भूमिका है. पुलवामा हमले के बाद मलका ने ट्वीट किया था, ‘हम सिर्फ दुनिया को जीने के लिए एक बेहचर बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं. इजराइल पुलवामा में हुए आतंकी हमले की कड़ी निंदा करता है और इस मुश्किल घड़ी में अपने भारतीय दोस्तों के साथ खड़ा है.’ उन्होने ये भी व्यक्त किया कि वो सीआरपीएफ जवानों के परिवारों, भारत के लोगों और भारत सरकार की मदद करके अपनी संवेदनाएं व्यक्त करते हैं. भारत लगातार कह रहा है कि पुलवामा आतंकी हमले में पाकिस्तानी जासूस एजेंसी आईएसआई शामिल थी.

Show More

Related Articles

Back to top button
Close