सेकेंड हैंड सोफे में मिला कुछ ऐसा तीन दोस्त हो गए हैरान, गद्दी हटाया तो आंखे चौंधिया गई

ऐसा माना जाता है कि जब देने वाला देता है तो छप्पड़ फाड़ कर देता है. किसी की किस्मत कब खुल जाए ये कहा नहीं जा सकता, क्योंकि इस दुनिया में हर कोई रुपया कमा रहा है लेकिन जब किसी को एक साथ बिना मेहनत के लाखों रुपया मिल जाए तो वो खुद पर यकीन नहीं करेगा. कुछ ऐसा ही हुआ अमेरिका के तीन दोस्तों के साथ जिन्होंने कभी नहीं सोचा था कि पढ़ाई करने के दिनों में ही उन्हें वो खजाना मिल जाएगा जिसे वो अपने आने वाले सालों में सोचते थे तो जरा सोचिए उनका रिएक्शन कैसा रहा होगा. सेकेंड हैंड सोफे में मिला कुछ ऐसा तीन दोस्त हो गए हैरान, उस सोफे में किसी की दिन रात की मेहनत और एक आस छिपी थी जिसे उन दोस्तों ने समझा और पार लगाया.

सेकेंड हैंड सोफे में मिला कुछ ऐसा तीन दोस्त हो गए हैरान

अमेरिका के पाल्ट्स में स्थित स्टेट यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले तीन कॉलेज स्टूडेंट्स रीसे वेरखोवे, कॉली गास्टी और लारा रुस्सो ने रहने के लिए एक कमरा किराए पर लिया. जिसमें तीनों ने मिलकर मात्र 1500 रुपये में एक सोफा खरीदा और उसे अपने कमरे में रखा लेकिन एक दिन कुछ ऐसा हुआ जिसके बारे में किसी ने नहीं सोचा था. दरअसल एक दिन तीनों बैठकर टीवी देख रहे थे तभी उन्हें सोफे में कुछ महसूस हुआ.

जैसे ही तीनों ने सोफे के उस हिस्से वाले गद्दे को हटाया तो उसमें एक लिफाफा था और उसमें करीब 1 हजार डॉलर (70 हजार रुपये) थे. इसके बाद उनकी उत्सुकता बढ़ने लगी और उन्होंने सोफे के बाकी हिस्सों को भी टटोलना शुरु कर दिया और उसमें एक के बाद एक कई लिफाफे मिले. उन लिफाफों में नोट भरे हुए थे लेकिन आखिर में उन्हें एक बॉक्स मिला जिसे खोलते ही उन तीनों की आंखें चौंधिया गईं. उस बॉक्स में रोल किए हुए हजारों डॉलर थे जिसकी गिनती के बाद करीब 41 हजार डॉलर यानी करीब 29 लाख रुपये मिले.

तीनों ने अपनी आंखों पर यकीन नहीं किया और सपने में भी नहीं सोचा होगा कि कौड़ियों के भाव एक सोफे में इतना कुछ हो सकता है. मगर तीनों ने जब लिफाफे को ध्यान से देखा तो उसमें एक डिपॉजिट स्लिप थी जिसका मतलब वो पैसा किसी ने बैंक में जमा करने के लिए रखा था. तीनों ने बिना लालच किए उस स्लिप में लिखे एड्रेस के मालिक की तलाश करने लगे. उन्हें एक एड्रेस मिला और जब वहां पहुंचे तो एक बूढ़ी महिला मिली और उसने बताया कि ये पैसा उसके पति के रिटायरमेंट का था जिसे उनकी मौत के बाद बैंक में जमा किया जाना था.

तीनों बच्चों को मिला उनकी ईमानदारी का ईनाम

महिला ने जब उन तीनों से पूरी डिटेल जानी और वो रुपया देखा तो बहुत ज्यादा खुश हो गई. उन्होंने बताया कि वो ये पैसा बैंक में जमा करने वाली थीं कि किसी काम से उन्होंने उसे सोफे में छिपा दिया और किसी को नहीं बताया. बाद में उनके बच्चों ने बूढ़ी महिला को बिना बताए उस सोफे को बेच दिया और इसके साथ ही उनकी आस भी चली गई कि उनके पति की मेहनत की कमाई यूंही चली गई. तीनों ने महिला को पूरा रुपया लौटा दिया जिससे वो बहुत खुश हुई. उन्होंने उन बच्चों की खूब तारीफ की और बदले में एक-एक हजार डॉलर यानी करीब 70 हजार रुपये का ईनाम के तौर पर दिया. अब इनकी कहानी सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है.