पांचवी फेल व्यक्ति ने खड़ी कर दी 2000 करोड़ की कंपनी, दान कर देता है कमाई का बड़ा हिस्सा

“मंजिलें उन्हीं को मिलती है जिनके सपनों में जान होती है, सिर्फ पंखों से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है”. ये कहावत तो आप सबने सुनी होगी. लेकिन इस कहावत पर अमल करने वाले कुछ ही  लोग होते हैं. बड़ा और अमीर बनने की चाहत हर किसी की होती है. हर कोई पैसा कमाकर ऐशो-आराम की ज़िंदगी जीना चाहता है. लेकिन केवल सोचने भर से कुछ नहीं होता. अगर आप वाकई ऐसी जिंदगी चाहते हैं तो इसके लिए आपको कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी. आजकल तो कड़ी मेहनत के बाद भी गारंटी नहीं होती कि व्यक्ति सफल हो पायेगा या नहीं. कुछ किस्मत का भी खेल होता है. कड़ी मेहनत के साथ किस्मत भी साथ दे दे तो व्यक्ति को सफल होने से कोई नहीं रोक सकता. लेकिन हर किसी में इतना सब्र नहीं होता. कुछ ही लोगों में अपने सपने को पूरा कर पाने की हिम्मत होती है. आमतौर पर माना जाता है कि अच्छी पढ़ाई होने पर ही इंसान कुछ बन पाता है. लोगों की सोच है कि अच्छी शिक्षा मिलने पर ही अच्छी नौकरी मिलती है. पर असलियत में ऐसा कुछ नहीं होता. भारत और विदेशों में कई ऐसी बड़ी हस्तियां मौजूद हैं जिन्होंने कम पढ़ाई होने के बावजूद दुनिया में अपनी पहचान बनाई है. आज के इस पोस्ट में हम ऐसे ही एक व्यक्ति की बात करने जा रहे हैं जिन्होंने कम पढ़े-लिखे होने के बावजूद शोहरत पायी और आज ये देश के सबसे बड़े उद्योगपतिओं में से एक हैं.

5वीं पास होकर भी लेते हैं 25 करोड़ की सैलरी

एमडीएच मसालों का नाम तो आपने सुना ही होगा. यह ब्रांड दुनिया के सबसे टॉप मसालों के ब्रांड में से एक है. एमडीएच ने मसालों की दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाई है. इस ब्रांड को टॉप पर पहुंचाने के पीछे जिस व्यक्ति का हाथ है उनका नाम धर्मपाल गुलाटी है. धर्मपाल गुलाटी जी की उम्र 96 साल है और उनकी शिक्षा केवल पांचवी तक हुई है. इतनी कम शिक्षा होने के बावजूद वह आज करोड़ों के मालिक हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि मात्र 500 से अपने सफ़र की शुरुआत करने वाला ये व्यक्ति आज 2000 करोड़ की कंपनी का मालिक बन गया है.

कमाई का बड़ा हिस्सा चैरिटी को देते हैं दान

धर्मपाल गुलाटी एकमात्र ऐसे सीईओ हैं जिन्हें भारतीय खुदरा बाज़ार में सबसे अधिक सैलरी मिलती है. उनकी मेहनत और लगन ही है जिसकी वजह से वह आज इस मुकाम पर हैं. हम सालों से उनको एमडीएच मसालों के विज्ञापन में देखते आ रहे हैं. हम आपको बता दें कि पिछले साल यानी 2018 में ही उन्होंने 25 करोड़ की सैलरी ली है. इस ब्रांड ने अपने मसालों की कीमत कम रख कर बाकी कंपनीज़ को मात दे दी है. गुलाटी जी केवल मसालों के नहीं बल्कि दिल के भी बादशाह हैं तभी तो वह अपनी कमाई का बड़ा हिस्सा चैरिटी में दे देते हैं.

चटकदार मसालों से बनाया दुनिया को दीवाना

धर्मपाल गुलाटी जी के मसालों को पूरी दुनिया में निर्यात किया जाता है. उनके द्वारा बनाये गए मसालों का स्वाद पूरी दुनिया के जुबान पर चढ़ा हुआ है. अच्छी शिक्षा नहीं मिलने के बाद भी उन्होंने एक अलग पहचान बनाई है और पूरी दुनिया में अपना और भारत का नाम रौशन किया है. इसलिए यह कहना गलत होगा कि अच्छी शिक्षा मिलने पर ही इंसान कुछ बन पाता है. कभी-कभी कम पढ़े-लिखे लोग भी इतना कमाल कर जाते हैं जो पढ़े-लिखे भी नहीं कर पाते. फिर आपने वो कहावत भी सुनी ही होगी कि, “जो कुछ नहीं करता है, वह कमाल करता है”.

पढ़ें 8वीं फेल लड़के ने खड़ी कर दी 2000 करोड़ की कंपनी, जानिए इनकी दिलचस्प कहानी

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा. पसंद आने पर लाइक और शेयर करना न भूलें.