रॉबर्ट वाड्रा को आज फिर होना होगा ED के सामने पेश, नहीं कर रहे जांच में सहयोग

मनी लॉन्ड्रिंग केस में राबर्ट वाड्रा से पूछताछ का दौर अभी भी जारी है और राबर्ट वाड्रा से आज भी प्रवर्तन निदेशालय की टीम इस मामले में पूछताछ कर रही है. राबर्ट वाड्रा से इस मामले में पहली बार छह फरवरी और फिर सात फरवरी को पूछताछ की गई थी, मगर उनके जवाबों से संतुष्ट ना होने के चलते उन्हें शनिवार को एक बार फिर से प्रवर्तन निदेशाल (ईडी) के सामने पेश होने के आदेश दिए गए हैं. कहा जा रहा है कि वाड्रा ईडी का इस जांच में सहयोग भी नहीं दे रहे हैं जिसके चलते उन्हें फिर से ईडी ने अपने दफ्तर बुलाया है.

क्या है पूरा मामला 

वाड्रा पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है और ईडी के अनुसार इन्होंने दूसरे देश में अवैध संपत्ति लेने के लिए मनी लॉन्ड्रिंग का सहारा लिया था. ईडी के अनुसार  लंदन में वाड्रा की कई सारी संपत्तियां हैं और इस वक्त ईडी इनसे  12 ब्रायनस्टन स्क्वायर पर ली गई एक संपत्ति को लेकर पूछताछ कर रही है. जो कि  19 लाख पाउंड में खरीदी गई थी.  ईडी का कहना है कि ये  जगह फरार आर्म्‍स डीलर संजय भंडारी के जरिए खरीदी गईं थी और ईडी के पास कुछ दस्तावेज हैं जो वाड्रा और इस संपत्ति के बीच कुछ तार जुड़ रहे हैं. कहा जा रहा है कि साल  2009 में पेट्रोलियम मंत्रालय की एक डील के वक्त, ब्रिटेन की कंपनी सिंटैक (Syntak) को कुछ रिश्‍वत दी गई थी और इस कंपनी के संचालक उस समय संजय भंडारी थे.

रिश्‍वत  के पैसे मिलने के बाद भंडारी ने  ये संपत्ति ली थी और फिर इस संपत्ति को इन्होंने वाड्रा को बेच दिया था. हालांकि भंडारी ने इस संपत्ति को लेन के बाद इस जगह का नवीनीकरण भी करवाया था और इस कार्य में इनका करीब 65,000 पाउंड का खर्चा आया था. इतना खर्चा आने के बावजूद इन्होंने इस जमीन को एक साल बाद वाड्रा को  उसी कीमत पर बेच दिया था जिस कीमत पर इन्होंने इस जमीन को खरीदा था. इसलिए ईडी इस मामले में वाड्रा से पूछताछ कर रही है. इनके अलावा इस केस में ईडी ने भंडारी को भी आरोपी बनाया है. वहीं आपको बता दें कि जिस वक्त ये रिश्वत भंडारी की कंपनी को दी गई थी उस वक्त यूपीए की सरकार थी.

क्या है ईडी का कहना

इस मामले में ईडी ने कोर्ट में कहा है कि लंदन में और भी ऐसी कई संपत्तियां हैं जो कि वाड्रा की हो सकती हैं और साथ में ही ईडी के हाथ में ऐसा एक मेल भी लगा है जिसमें वाड्रा ने लंदन में जो जमीन ली थी उसके नवीनीकरण हुआ है है. वहीं ईडी की बता सुनने के बाद कोर्ट द्वारा वाड्रा को 16 फरवरी तक अंतरिम जमानत दी गई है और उन्हें ईडी की जांच में सहयोग करने का आदेश भी दिया गया है.

जयपुर में भी पूछताछ के लिए जाना है

दिल्ली के अलावा संपत्ति से जुड़े एक केस के चलते वाड्रा को  12 फरवरी को जयपुर के ईडी कार्यालय पर भी बुलाया गया है और ये मामला बीकानेर में जमीन खरीदने से जुड़ा हुआ है.