‘पापा-मम्मी, मेरी सुसाइड की वजह मेरे स्कूल टीचर है, वो हमेशा मुझे..’लिखकर छात्रा ने किया सुसाइड

छात्रा कपूर कॉलोनी में रहने वाली थी जिसने बुधवार को अपने घर में फांसी लगा कर जान दे दी। केएमवी संस्कृति स्कूल में पढ़ने वाली छात्रा की मौत की वजह तब मालूम हुई जब घर वालों को उसके रूम से एक चिट्ठी मिली जिसमें लिखा था की उसी के स्कूल का एक 32 वर्षीय  मैथ्स का टीचर नरेश कपूर उससे बहुत तंग और परेशान करता था। वहां के एसएचओ जीवन सिंह ने चिट्ठी को एक्सपर्ट के पास भेज है ताकि ये पता किया जा सके हैंडराइटिंग उसी छात्रा की है या किसी और की। लेकिन फिर भी टीचर पर केस दर्ज हो गया है उससे आत्महत्या करने पर मजबूर करने का केस दर्ज किया गया है। जिस स्कूल में ये टीचर पढ़ाता था वहा से भी निलंबित कर दिया गया है।

मैथ टीचर से परेशान थी छात्रा

पिता राजेश मेहता ने कहा की जो चिट्ठी मिली थी उसपर लिखा था उससे मजबूर किया गया वरना वो अपनी जान नहीं देती। उसके टीचर नरेश सिंह हमेशा उस्सी पर गुस्सा करते थे। गलती कोई और करता और डांटते मुझे थे। उसने ये भी लिखा की अगर यकीन नहीं तो क्लास के और छात्रों से पूछ ले। मैं कभी कोई गलती नहीं करती थी फिर भी मुझपे हमेशा गुस्सा करते थे और सिर्फ मैं ही नहीं क्लास की हर छात्र को डांटते रहते थे।

पिता राजेश मेहता से जब पुलिस अधिकारी ने बात की तो पता चला वो सुसाइड नोट पर 5 जनवरी का तारीख था और सुसाइड वाली रात सब कुछ हर रोज़ की तरह नार्मल था। बेटी ने खाना खाया और 11 बजे अपने रूम में चली गयी, फिर जब सुबह में वो बाहर नहीं आ रही थी उसके पिताजी जब रूम में गए तो बेटी को फंदे पर लटका पाया। आरोपी ने कहा उसने कभी किसी पर दबाव नहीं डाला और न किसी से के साथ गलत बर्ताव करता था लेकिन जिस तरह  सुसाइड नोट में लिखा है उससे तो साबित यही होता की टीचर के वजह से ही उसने अपनी जान दी है।

अपनी माँ से कह चुकी थी बहुत बार यह बात

उसकी माँ का कहना है की कुछ दिन से उसकी बेटी का पढाई में बिलकुल मन नहीं लग रहा था और क्लास में उसका परफॉरमेंस भी सही नहीं जा रहा था। वो अक्सर अपनी माँ से कहती थी माँ मुझे स्कूल नहीं जाना, मुझे पढाई नहीं करना लेकिन उसकी माँ ने कभी जानने की कोशिश नहीं की आखिर बात क्या है।

क्लास में पढ़ने वाली उसकी और सहेलियों से जब पुछा गया तो उन सब ने भी वही बात कही जो राजेश मेहता की बेटी ने सुसाइड नोट में लिखी थी। टीचर चाहे जितनी भी कोशिश करले लेकिन ये तो साबित हो गया है की राजेश मेहता की बेटी के पास कोई और रास्ता ना होने के कारण उसने आखिर में अपने टीचर के वजह से सुसाइड कर लिया।