प्रेग्नेंसी से जुड़ी इन 5 झूठी बातों को सच मान लेती हैं महिलाए, जानें क्या है असली सच

मां बनना किसी भी औरत की जिंदगी का सबसे अहम मोड़ होता है। एक जिंदगी को अपने गर्भ में धारण करना औऱ फिर उसे जन्म देना ईश्वर को औरत का दिया सबसे बड़ा वरदान है। गर्भ से लेकर दुनिया में आने तक का सफर बहुत आसान नहीं होता है। इस दौरान मां को बहुत तरह की सावधानियां बरतनी पड़ती है। जैसे ही लोगों को पता चलता है कि बेटी-बहु-बहन मां बनने वाली हैं लोगों की तरह तरह की नसीहत शुरु हो जाती है। कोई कहेगा ये मत करो बच्चे को नुकसान पहुंचेगा कोई कहेगा कि ऐसा करो तभी बच्चे को फायदा मिलेगा।

ऐसी ही कुछ नसीहतों के साथ जब एक महिला डॉक्टर के पास पहुंची तो डॉक्टर ने बताया कि उसमें से कितनी ही बातें बकवास थी। प्रेग्नेंसी के समय में बहुत सी ऐसी मिथक बातें होती हैं जो महिलाएं सच मान लेती हैं। आपको बताते हैं कि आज तक आप किन गलत बातों पर विश्वास करती आई हैं।

एक्सरसाइज ना करना

हां ये बात एकदम सही है कि प्रेग्नेंट हो जाने पर भारी वजन या बड़ा सामान नहीं उठाना चाहिए, ये बच्चे के लिए सही नहीं होता है, लेकिन एक्सरसाइज में कई बुराई नही है। भारी भरकम- पसीना बहाने वाली एक्सरसाइज नहीं बल्कि हल्की एक्सरसाइज करें। इस समय में अपने शरीर क हिलाते डुलाते रहना चाहिए। अगर सिर्फ बेड पर पड़े हुए आप 9 महीना काट देंगी तो डिलवरी के वक्त आपके लिए समस्या बढ़ जाएगी। अपने डॉक्टर से बात करें और उनकी सलाह से ही एक्सरसाइज करें। वॉक करें या घर का थोड़ा बहुत काम करती रहीं जिससे शरीर एक्टिवं बना रहे।

गर्भवती हो तो दो लोगों का खाना खाओ

घर में जैसे ही पता चलता है कि बहु प्रेग्नेंट है तो खाने की मात्रा बहुत ज्यादा बढ़ा दी जाती है।  डॉक्टर इसे भी गलत मानती हैं। आपके पेट में बच्चा है तो इसके लिए आपको दो लोगों का खाना खाने की जरुरत नही है। सिर्फ अपनी डाइट में 300 कैलोरी ज्यादा बढ़ानी है। ऐसा भोजन करे जिसमें प्रोटीन हो जिससे आपके शरीर में ताकत बनी रही। अंडा दूध मीट दाल जिसे भी खाकर आप सहज महसूस करें उसे खाएं। खाना उतना ही खाएं जितने में आपकी तबियत ना बिगड़े।

प्रेग्नेंसी के दौरान नो सेक्स

डॉक्टर इस बात की भी आपको पूरी इजाजत देते हैं कि आप प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स कर सकती हैं। हां आखिरी के महीनों मे ये आपके लिए खतरनाक हो सकता है, लेकिन प्रेग्नेंसी की शुरुआत में सेक्स करने से कोई फर्क नहीं पड़ता। डिलवरी अगर करीब हो तो भी सेक्स कर सकते हैं इससे डिलवरी में आसानी होती है। अगर सहज महसूस ना हो रहा हो तो ना करें क्योंकि कॉन्ट्रेक्शन बढ़ सकता है।

सफेद खाना खाओ गोरा बच्चा होगा

हर किसी के परिवार की यही ख्वाहिश होती है कि बच्चा जब पैदा हो तो गोरा चिट्टा हो इसलिए प्रेग्नेट महिला को लोग सफेद चीजें खाने की सलाह देते हैं। कुछ लोग कहते हैं कि सफेद नारियल के सेवन से ही गोरे बच्चे पैदा होते हैं। डॉक्टर ने बताया है कि  खाने का रंग से कोई लेना देना नहीं होता है। ये जेनेटिक है। अगर बच्चा सांवला पैदा होना होगा तो उसके जीन में है और नारियल खाने से उसकी रंगत नहीं बदल जाएगी।

डिलवरी के समय ही वेट हो जाता है कम

बहुत से लोगों का मानना होता है कि जब महिलाओं प्रेग्नेंट होती हैं तो उनका वजन बहुत ज्यादा रहता है और जैसे ही वह बच्चे को जन्म देती हैं वजन घट जाता है। .ये बात भी सरासर गलत है। आमतौर पर गर्भवती महिलाएं 11 से लेकर 16 किलो तक वन गेन करती हैं और डिलवरी के वक्त सिर्फ 5 किलो ही लूज कर पाती हैं। ये बच्चे और प्लेसंटा का वजन होता है। प्लेसेंटा ही मां औऱ बच्चे को एक नली से जोड़े रहता है। इसके बाद से अगर वजन घटाना हो तो करीब 1 साल तक का वक्त लग जाता है।

यह भी पढ़ें