घर में केवल सही दिशा में ही रखें पानी, नहीं तो हो जाएंगे कंगाल

पानी एक ऐसी चीज है जिसका प्रयोग हर कोई करता है और इस चीज का इस्तेमाल पीने, खाना बनाने, नहाने से लेकर कई चीजों में होता है. हर किसी के घर में पानी को रखने के लिए एक निर्धारित जगह भी होती है. लेकिन क्या आपको पता है कि अगर आप अपने घर में पानी को सही दिशा में नहीं रखते हैं तो ये आपके जीवन में कई सारी परेशानियों को लेकर आ सकता है. दरअसल वास्तु शास्त्र में पानी की दिशा से जुड़ा हुआ भी जिक्र किया गया है.  इस शास्त्र के मुताबिक घर में पानी के स्थान का चयन करते वक्त कई चीजों का ध्यान रखना होता है और केवल सही दिशा में ही पानी रखना उचित होता है.

क्या होता है वास्तु शास्त्र

किसी भी घर की तरक्की में उस घर का वास्तु शास्त्र काफी अहम होता है और अगर वास्तु शास्त्र के हिसाब से घर में चीजों को रखा जाए तो घर में पैसों, शांति और खुशियों का बसेरा बना रहता हैं.  इसलिए ये जरूरी होता है कि आप अपने घर को बनाते समय इसके वास्तु शास्त्र पर भी ध्यान दें.

पानी के स्थान से जुड़ा हुआ वास्तु शास्त्र –

रसोई घर में कहां रखना चाहिए पानी

हर घर की रसोई में पानी जरूर होता है और वास्तु शास्त्र के मुताबिक रसोई में पानी से भरे बर्तनों को उत्तर-पूर्व दिशा या फिर पूर्व दिशा में ही रखना चाहिए. क्योंकि इस दिशा में पानी के भरे बर्तनों को रखने से परिवार के लोगों का स्वास्थ्य सही बना रहता है. इस दिशा के अलावा आप पानी से भरे बर्तनों को पश्चिम दिशा में भी रख सकते हैं.  हालांकि इस दिशा में इनको रखने से ना तो घर को कोई नुकसान होता है और ना ही किसी प्रकार का फायदा होता हैं.

गैस के पास ना रखें पानी को

पानी से भरे बर्तन या फिर पानी के फिल्टर को कभी भी गैस के पास नहीं रखना चाहिए. ऐसा कहा जाता है कि अग्नि और पानी के बेहद करीब होने से घर में लड़ाई बनी रहती है. इसलिए रसोई घर में इन दोनों चीजों को दूरी पर ही होना चाहिए.

छत पर पानी की टंकी की सही दिशा

छत पर रखी जाने वाली पानी की टंकी को भी सही दिशा में होना चाहिए और वास्तु में टंकी को रखने के लिए  उत्तर-पश्चिम दिशा और उत्तर दिशा के बीच या फिर पश्चिम दिशा के मध्य वाली जगह को उत्तम माना गया है.

किसा दिशा में हो कुआं

कई लोगों के घरों में आज भी कुआं या फिर पानी को भरकर रखने के लिए टैंक होते हैं और वास्तु शास्त्र में इन प्रकार की चीजों को बनाने के लिए उत्तर-पूर्व की दिशा ही उत्तम मानी गई है. वहीं अगर किसी के घर में इस दिशा के अलावा किसी और दिशा में टैंक या कुआं है, तो उसे हमेशा भरवाकर रखना ही सही होता है.

सही दिशा में ही हो बाथरूम

रसोई के बाद पानी का सबसे ज्यादा प्रयोग बाथरूम में होता है, इसलिए ये जरूरी होता है कि घर के बाथरूम की दिशा सही हो ताकि पानी बाथरूम में सही दिशा में ही रखा जाए. वास्तु शास्त्र के मुताबिक नहाने वाली जगह  को हमेशा पूर्व दिशा में ही होना चाहिए .

घर के किसी भी नल से पानी ना निकले

घर में सही दिशा में पानी को रखने के अलावा ये भी जरूरी होता है कि आपके घर में लगे सभी पानी के नल एकदम सही हो और घर में लगे किसी भी नल से पानी ना टपके या फिर लिक हुए. क्योंकि घर के नल से पानी निकलने से घर में लक्ष्मी का वास नहीं हो पाता है और घर में पैसों की कमी आ जाती है.