12 साल बाद लगी 1.5 करोड़ रुपए की लाटरी, लेकिन साथ आयी ऐसी मुसीबत की सोचा भी न था

इस बात में कोई दो राय नहीं है कि भगवान जब देता है तो छप्पड़ फाड़ के देता है. लेकिन जब किसी व्यक्ति की किस्मत ही फूटी हो तो फिर क्या कहने. हाल ही में पंजाब के गुरदासपुर से एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसने सबको सोचने पर मजबूर कर दिया है. दरअसल गुरदासपुर के रहने वाले मोहन लाल की पिछले साल नवंबर महीने में 1.5 करोड़ रुपए की लाटरी लगी थी. उनके जीतने पर आस-पास के लोगों ने उन्हें करोड़पति कह कर बुलाना शुरू कर दिया हा लेकिन आज दो महीने बाद भी मोहन लाल को इनाम की रकम नहीं मिली है जिसकी वजह जान कर आप भी हैरत में पड़ जाएंगे.

दिवाली बंपर में जीती थी लॉटरी

गुरदासपुर के दीनानगर के पास के एक गाँव में रहने वाले मोहन लाल पेशे से लोहे की अलमारिया बनाते हैं. पंजाब सरकार के दिवाली बंपर 2018 में उन्होंने लॉटरी डाली थी. इस बंपर ड्रा की घोषणा 14 नवंबर को की गई थी. जिसको मोहन लाल ने जीता था.ख़ास बात यह है कि मोहन लाल पिछले 12 वर्षों से लगातार अपनी किस्मत आजमाने में लगे हुए थे. हर टिकेट के बाद वह यह उम्मीद रखते थे कि आखिरकार एक दिन उनकी किस्मत आवश्य ही बदल जाएगी. लेकिन भगवान की करनी के आगे कोई क्या कर सकता है. आज आलम यह है कि करोड़पति बनने के बाद भी वह अपनी जीती हुई रकम पाने में असमर्थ हैं.

एक साथ खरीदी थी 2 टिकेट

मोहन लाल हमेशा से लॉटरी में विश्वास रखते आए थे और इस बार उन्होंने दिवाली पर एक साथ दो लॉटरी टिकेट खरीदी थी जिनमे से उनकी एक टिकेट का नंबर लकी निकला और वह 1.5 करोड़ रुपए जीत गए. मोहन लाल के अनुसार उनकी जीत के पीछे भगवान का ही आशीर्वाद था. लेकिन आज भी वह अपनी जीती रकम हासिल नहीं कर पाए हैं. लॉटरी स्टाल के मालिक के अनुसार टिकेट जमा किया जा चुका है और भुगतान 90 दिनों के भीतर किया जाता है. लेकिन अब समय बढ़ता जा रह है लेकिन मोहन लाल को अभी तक उनके पैसे नहीं मिल पाए हैं.

पैन कार्ड ना होने से आई दिक्कत 

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि डेढ़ करोड़ रुपए के विजेता मोहन लाल को पैसे ना मिलने का कारण उनका पैन कार्ड न होना था. दरअसल, मोहन लाल को कभी पैन कार्ड की आवश्यकता नहीं पड़ी इसलिए उन्होंने कभी बनवाने की नहीं सोची. लेकिन अब सरकार के नए नियमों के तहत पैन कार्ड लेन-देन के लिए अनिवार्य हो चुका है. देर से कार्ड बनवाने के कारण उनके इनाम में अब देरी हो रही है.

क्या करेंगे इतने पैसे का?

एक समय ऐसा भी था जब मोहन लाल के पास पैसों की कोई कमी नहीं थी लेकिन महंगाई ने ऐसा रुख बदला कि आज वह दिन भर मेहनत करके भी महीने में 10 से 12 हज़ार रुपए ही मुश्किल से कमा पाते है. मोहन लाल के अनुसार जब उन्हें पैसा मिलेगा तो वह उसका सबसे पहले एक नया घर लेंगे क्यूंकि उनकी दो बेटियां हैं. ऐसे में अच्छा घर न होने से उन्हें भविष्य में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है. इसके इलावा वह अपने इन पैसों से कोई अच्छा कारोबार शुरू करेंगे.