2 साल से मायावती के साथ साए की तरह चिपका है स्मार्ट नौजवान, कौन है ये? जानकर नहीं होगा यकीन

जब कोई अपने पद से रिटायर्ड होता है तब लोग इंतजार करते हैं कि इनका उत्तराधिकारी कौन बनेगा. मगर जिनकी शादी ही नहीं हुई हो तब इसके बारे में आपका क्या ख्याल हो सकता है. हम आपको बसपा सुप्रीमो मायावती के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने अपनी सियासत तो बिखेर ली है लेकिन कब तक वो इसे संभालेंगी किसी को तो सत्ता देनी ही होगी लेकिन उनका परिवार तो है नहीं तो ये कैसे संभव हो सकता है.

बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती के हर कार्यक्रमो में दो सालों से एक स्मार्च का बंदा नजर आ रहा है और ये उनके साथ हर इवेंट अटैंड करता है. 2 साल से मायावती के साथ साए की तरह चिपका है स्मार्ट नौजवान, अब ये कौन है इसका मायावती के साथ कैसा रिश्ता है इसके बारे में आपको जानना चाहिए.

2 साल से मायावती के साथ साए की तरह चिपका है स्मार्ट नौजवान

दो सालों से मायावती के साथ हर कार्यक्रम में पहुंचने वाला ये स्मार्ट सा लड़का आकाश है जो मायावती के भाई आनंद का बेटा है. इसने लंदन से एमबीए किया है और अब दो सालों से अपनी बुआ से राजनीति के दांवपेज सीख रहा है. बहुत से लोगों का कहना है कि यही मायावती का उत्तराधिकारी बनेगा. मायावती ने अपने भाई को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाकर अपनी सत्ता उनके हाथ देने की कोशिश की थी लेकिन मायावती पर परिवारवाद और वंशवाद का आरोप लगा और इसके बाद उन्होंने आनंद को मुक्त कर दिया था. लेकिन पिछले 2 सालों से आकाश अपनी बुआ को हर तरीके से फॉलो कर रहा है और मीडिया ने भी इन्हें ऑब्जर्व कर लिया है. 12 जनवरी को सपा और बसपा का गठबंधन हुआ और फिर प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इसके बाद आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने 13 तारीख को उनसे मुलाकात की तब आकाश उनके साथ ही थे और इतना ही नही जन्मदिन के मौके पर भी आकाश अपनी बुआ मायावती के साथ ही थे.

इससे पहले साल 2017 के सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में भड़की जातीय हिंसा के बाद जब मायावती के साथ आकाश भी वहां पहुंचे थे. इसके बाद जब मेरठ में रैली हुई और फिर लखनऊ में बसपा की ऑर्डिनेटर बैठक हुई उसमें मायावती ने आकाश का परिचय भतीजे के रूप में सबसे करवाया. बसपा के वरिष्ठ नेता का कहना है कि मायावती आकाश को पार्टी में युवा नेता के रूप में स्थापित होना है और किसी पद के ना रहते हुए बसपा उनके सहारे युवाओं को पार्टी लड़वाना चाहती हैं. नेता का कहना है कि बसपा सुप्रीमो मायावती आकाश को इस समय गठबंधन के प्रयोग से लेकर सीटों के बंटवारों के दावपेज सीखा रही हैं.