मकर संक्रांति 2019: सालों बाद बन रहा है ये महायोग, इन चीजों के दान से दूर होंगे सारे कष्ट

भारत एक ऐसा देश है जहां पर त्यौहारों का सिलसिला कभी खत्म नहीं होता. एक जाता है तो दूसरा उसके पीछे तैयार रहता है और सबसे ज्यादा त्यौहार हिंदू धर्म में मनाया जाता है. नये साल का जश्न अभी खत्म भी नहीं हुईं कि मकर संक्रांति की लोग तैयारियां करने लगे. इस साल मकर संक्रांति 15 जनवरी यानी मंगलवार के दिन है और इस दिन अश्विनी नक्षत्र के साथ-साथ सर्वार्थ सिद्धि योग में मनाया जाएगा. इस ही दिन गंगा स्नना और दान के कर्मों पर बहुत महत्व समझा जाता है. कुछ पंडितों ने बताया कि 14 जनवरी यानी सोमवार की आधी रात में सूर्य का मकर राशि में प्रवेश होना है और इसके साथ ही मंगलवार यानी 15 जनवरी को दोपहर 12 बजे तक पुण्यकाल में मकर संक्राति का त्यैहार मना सकेंगे. मकर संक्रांति 2019: सालों बाद बन रहा है ये महायोग, इसलिए सूर्यास्त के पहले सूर्य का संक्रमण हो तो उसी तारिख और दिन में मकर संक्राति को मानाया जा सकता है.

मकर संक्रांति 2019: सालों बाद बन रहा है ये महायोग

इसी दिन स्नान-दान और तिल ग्रहण करके कंबल का दान किया जाना शुभ माना गया है. सूर्य के उत्तरायण होने से व्यक्ति की कार्यक्षमता में वृद्धि होती है. उदयकालीन तिथि के मुताबिक, 15 जनवरी को ही सूर्योदय काल से दिन के 11.28 बजे तक मकर संक्राति के पुण्य काल में स्नान-दान किया करना अच्छा रहेगा. इसके साथ ही सूर्य दक्षिणायण से उत्तरायण भी हो जाएंगे और इसी के साथ खरमास भी खत्म हो जाता है. 15 जनवरी के दिन किसी भी व्यक्ति का दान फिर स्नान करना बहुत शुभ होता है इसलिए ही इसे मकर संक्रांति कहते हैं. इस दिन से शीत ऋतु भी खत्म होने वाली होती है और खरमास भी खत्म होता है. इसके साथ ही लोग नये कपड़े पहनते हैं और अपनी-अपनी छतों पर पतंग उड़ाते हैं उत्सव मनाते हैं. इस दिन में व्यक्ति को स्नान दान में आस्था रखना चाहिए. मन में किसी भी तरह का स्वार्थ दान करते समय नहीं रखें.

किसी भी चीज को दान करने के बाद उसके खर्च को लेकर रोना दान में नहीं माना जाता इस बात का ख्याल आपको रखना चाहिए. अगर आप ऐसा करते हैं तो इसका लाभ आपको नहीं मिल पाएगा. इन बातों को ध्यान में रखकर ही आप मकर संक्रांति की शुरुआत करिए तभी अच्छा रहता है.

मकर संक्राति पर करिए इन चीजों को दान

1. स्नान करने के बाद ब्राह्मण या किसी जरूरतमंद को खिचड़ी का दान देना अच्छा माना जाता है.

2. खिचड़ी के साथ ही तिल, लकड़ी, ऊनी कपड़े, कंबल, मिट्ठा, गुड़, आंवला और मौसम के मुताबिक कोई भी फल दान में देना अच्छा होता है.

3. मकर संक्राति वाले दिन तिल से बनी रेवड़ी, गजक और लड्डू का दान करना भी बहुत अच्छा होता है क्योंकि इस दिन तिल का बहुत महत्व माना जाता है.

4. अगर आप सामर्थ हैं तो गरीबों में गर्म कपड़े जरूर बांटना चाहिए इसी के साथ आपको ढेर सारी दुआएं भी मिलती है. इसके साथ आपको दान का पुण्य भी मिलेगा.

5. मकर संक्रांति को हर राज्य में अलग-अलग तरीकों से मनाया जाता है लेकिन इसमें तिल का महत्व हर रीति-रिवाज में शामिल होता है इसलिए इसे नजरअंदाज बिल्कुल नहीं करें.