हिन्दी समाचार, News in Hindi, हिंदी न्यूज़, ताजा समाचार, राशिफल

नोटबंदी: “जुगाड़बाज” हो जाएं सावधान, पीएम मोदी ने कराया है 500 बैंक शाखाओं का स्टिंग!

नई दिल्ली – पीएम मोदी ने नोटबंदी के बाद “जुगाड़बाजों” द्वारा बैंकों में कि जा रही गड़बड़ियों से निपटने के लिए एक बड़ा कदम उठाया है। सूत्रों के अनुसार बैंकों में हो रहे घपले की खबरों के बाद मोदी सरकार हरकत में है और इसीलिए देश की करीब 500 बैंक शाखाओं में स्टिंग ऑपरेशन करवाया गया है। टीवी रिपोर्ट्स कि माने तो स्टिंग की सीडी पीएम के पास भी पहुंच चुकी हैं। बताया जा रहा है कि इस स्टिंग में सरकारी और निजी क्षेत्र दोनों के बैंक शामिल हैं। कालेधन पर लगाम लगाने के लिए सरकार के नोटबंदी के फैसले के बाद बैंककर्मी सफेद धन को काला और कालेधन को सफेद करने में लगे हैं। जिसके चलते कई बैंककर्मियों के खिलाफ कार्यवाई भी हुई है। Sting of Bank branches.

Sting of Bank branches

दलालों, जालसाजों पर लगेगी लगाम –

टीवी रिपोर्ट्स के अनुसार सीडी में बैंक कर्मियों, दलालों, जालसाजों की मिलीभगत से पुराने नोटों को नए नोटों से बदलने के सबूत हैं। सूत्रों के अनुसार अगर बैंकों में गड़बड़ी नहीं होती तो लोगों को कैश के लिए इतनी दिक्कत नहीं उठानी पड़ती। सरकार अब ऐसे बैंकों के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई का भी मन बना रही है जो इस तरह के घपले में शामिल हैं। गौरतलब है कि देश के कई बैंकों में कालेधन को सफेद करने की खबरें सामने आईं थी। अभी तक इस गोरखधंधे में शामिल कई बैंक अधिकारी गिरफ्तार हो चुके हैं, जबकि कई के खिलाफ जांच चल रही है।

देश भर में पड़े आयकर विभाग के छापे –

सरकार ने पूरे देश में ब्लैक मनी को सफेद करने वाले लोगों और बैंकों पर शिकंजा कसना शुरू भी कर दिया है। प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने पुरानी दिल्ली स्थित ऐक्सिस बैंक शाखा में काम करने वाले 2 मैनेजर – शोभित सिन्हा और विनीत गुप्ता को गिरफ्तार किया है।

इसके अलावा राजीव सिंह नाम के शख्स को भी गिरफ्तार किया गया है।  ईडी के मुताबिक, राजीव सिंह टैक्स कंसल्टेंट है, जो लक्ष्मी नगर में ऑफिस चलाता है। वह टैक्स कंसल्टेंसी की आड़ में हवाला कारोबार करता है, जिसने पांच शेल कंपनियां रजिस्टर कराई हुई हैं। आरोप है कि उसने कई बड़े व्यापारियों के काले धन को सोने के रूप में सफेद किया है। सूत्रों के अनुसार अगर बैंकों की भूमिका सही रहती तो नोटबंदी के बाद से लोगों को इतनी दिक्कत नहीं होती।