रिलेशनशिप्स

खुश रहने के लिए ये हैं कुछ आसान टिप्स, जानें कैसे बेहतर तरीके से जी सकते हैं जिंदगी

आप कितने भी ब़ड़े ऑर्गनाइजेशन में काम करते हों , कितना भी अच्छा कमाते हों, घर कितना ही बड़ा क्यों ना हो…यह सारी बातें तब तक मैटर नहीं करती जब तक यह पक्का ना हो कि आप वाकई खुश हैं या नहीं। आपको खुश लरहने के लिए संसाधनों की जरुरत तो होती है, लेकिन वह क्षणिक खुशी होती है। असल खुशी वह होती है जब आप अकेले में भी मुस्करा पाते हैं या फिर दिल से खुशी महसूस करते हैं। आपको बताते हैं वह बातें जिनसे आप यह कर पाने में सक्षम होंगे।

खुद को पहचानें

यह बहुत ही टफ काम हैं। जी हां….आप दूसरों को तो पहचान पाते हैं, लेकिन कई बार आपको खुद नहीं पता होता है कि आप कैसे हैं। जब आप खुद को जानने और पहचानने की कोशिश करते हैं तो आप यह समझ पाते हैं कि आपकी प्राथमिकताएं क्या हैं। आप यह भी जान पाते हैं कि वह कौन सी चीजे हैं जो आपको अंदर से खुश करती हैं। अपने व्यक्तित्व के प्रति दिलचस्पी दिखाये। खुद को जानने की कोशिश करिए कि आप क्या हैं। जब आप खुद को जानने लगेंगे तो धीरे धीरे आप खुश होने लगेंगे।

पहले क्या है जरुरी

यह आपके लिए जानना सबसे ज्यादा जरुरी है। हर किसी की प्राथमिकताएं अलग होती हैं। कुछ लोगों के लिए उनका काम पहले होता है। वहीं कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनके लिए रिश्ते और परिवार पहले आता है। हर किसी की उसकी परिस्थिति के हिसाब से अलग अलग प्राथमिकताएं होती हैं। आप जानने की कोशिश करें कि आपके लिए पहले क्या आता है। जब आप यह जान जाते हैं तो फिर आप जीवन में खुशियां ढूंढ लाती हूं।

हॉबीज बनाएं रखें

हर इंसान कि कोई ना कोई हॉबी होती है जिसे वह बहुत पसंद करता है। किसी को लिखना पसंद है। किसी को गाना, किसी को बुक पढ़ना अच्छा लगता है किसी को कोई गेम खेलना। आपकी भी कोई ना कोई हॉबी होगी। उसे जिंदा रखें। वक्त सबके लिए 24 घंटा ही होता है। उस 24 घंटे में से अपने लिए वक्त निकालें। अगर कुछ नई ह़ॉबी बनानी हो तो वह बना लें। गिटार सीख लें। कोई किताब पढ़ना शुरु करें। जीवन में उम्र चाहे कोई भी रहे खुश रहने के लिए हमेशा जानें कि क्या चीज आपको हमेशा खुश बनाती हैं।हमेशा खुश रहें और खुश रहने की वजह ढूंढते रहें। जिंदगी तो कट ही जाती है, लेकिन जरुर है कि हम उसे जीएं।

खुद से करें दोस्ती

यह किसी भी इंसान का सबसे बेहतर पल होता है जब वह सिर्फ कुछ पल के लिए बस अपने लिए रहता है। किसी औऱ को समझने में वक्त निकालने से ज्यादा बेहतर है थोड़ा वक्त खुद के लिए निकालें। खुद को समझें और खुद को दोस्त बनाएं। खुद से सवाल पूछें कि आप क्या चाहते हैं। आपको कुछ करना है तो क्या आप वाकई वह काम  करना चाहते हैं। कहते हैं ना कि आपसे ज्यादा एक्सपर्ट एडवाइस आपको और कोई नहीं दे सकता। खुद से बात कर खद को समझने की कोशिश करें। खुशियां रास्ता ढूंढ लेंगी।

यह भी पढ़ें :

Back to top button
?>