भारत बंदः व्यापारियों ने कहा – ‘पीएम मोदी के समर्थन में आज दो घंटे अधिक खुली रहेंगी दुकानें’

नई दिल्ली – पीएम मोदी के नोटबंदी के फैसले के खिलाफ भारत बंद का ऐलान करना विपक्षी दलों के लिए निराशा भरा हो सकता है। देश के विभिन्न व्यापारी संगठनों ने भारत बंद का विरोध करने का फैसला किया है। इस क्रम में कई शहरों में बैठके कि जा रही हैं और व्यापारियों ने बंदी के विरोध में आज दो घंटे दुकाने अधिक खोलने का ऐलान किया है। Opposition announce India called off.

Opposition announce India called off

पीएम को उनके संसदीय क्षेत्र से मिला जबरदस्त समर्थन

नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी दलों की तरफ से सोमवार को प्रस्तावित भारत बंद का पुरजोर विरोध करते हुए पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी के प्रमुख व्यापारिक संगठनों ने दो घंटे अधिक दुकान खोलने का ऐलान किया है। पीएम मोदी के फैसले का समर्थन करते हुए उन्होंने यह भी कहा है कि जिनके पास काला धन है, वे विरोध करें। व्यापारियों को इससे कोई समस्या नहीं है और न ही ऐसे काम करने वालों से कोई मतलब है।  रविवार को वाराणसी स्थित पूर्वांचल की सबसे बड़ी किराना मंडीयों के अलावा शहर के अन्य प्रमुख बाजारों के व्यापारिक संगठनों ने बैठक कर बंद में शामिल न होने का निर्णय लिया।

 

पीएम मोदी ने जनता से पूछा – भ्रष्टाचार बंद हो या भारत बंद हो –

गौरतलब है कि कल पीएम ने विपक्ष द्वारा भारत बंद करने पर जनता से पूछा कि भ्रष्टाचार बंद हो या भारत बंद हो? हम कालेधन का रास्ता बंद कर रहे हैं वो देश को बंद करने में लगे हैं। कल रैली की शुरुआत में मोदी ने कहा कि इतनी भीड़ तो तब भी नहीं आई थी, जब मैंने काशी से चुनाव लड़ा था। दिल्ली की सरकार दलित, किसान, शोषित और गरीबों को समर्पित है। जनता का कष्ट हमारा कष्ट है। आपने मुझे इतना दिया है कि मैं कर्ज चुकाने आया हूं। जनता की समस्याएं दूर करना हमारी जिम्मेदारी है।

विरोधियों द्वारा सारे हथकंडे अपना लेने के बावजूद भी सरकार अपने फैसले पर कायम है। इसी क्रम में विरोधी पार्टियों ने एकजुट होकर 28 नवंबर को भारत बंद का ऐलान किया है। लेकिन जनता विरोधियों का साथ देने के बजाय इस ऐलान का जबरदस्त विरोध कर रही है। भारत बंद के ऐलान पर लोग कह रहे हैं कि जिस किसी दुकानदार ने 28 नवंबर को दुकान बंद रखी, उनसे वो कभी कोई खरीदारी नहीं करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

eleven + eighteen =