देखें वीडियो – जानिए कैसे छपते हैं नोट! प्रिटिंग प्रेस से आपके जेब तक कैसा होता है नोट का सफर!

नई दिल्ली – हमें तो हमेशा से पैसों कि कीमत मालूम है। हम जानते हैं कि पैसा हमारे जीवन में कितना मायने रखता है। इस सबके बीच नोटंबदी ने हमें नोट और पैसों की कीमत और अच्छे से समझा दी। इतने दिनों बाद भी लोगों की जेबों तक नोट नहीं पहुंच पाए हैं। नए नोटों की छपाई का काम तेजी से चल रहा है। बहुत कम लोग जानते होंगे कि हम नोट भले ही कागज का टुकड़ा कहते हो लेकिन वह कपड़े से बनता है। क्या आप जानना चाहते हैं कि एक नोट का प्रिंटिंग प्रेस से आपकी पर्स तक का सफर कैसा होता है। How the note printed.

प्रिंटिंग प्रेस में ऐसे छपते हैं नोट –

देश में नोट प्रिंटिंग के लिए कुल 4 प्रेस हैं। दो नासिक और देवास में हैं जो सरकार के कंट्रोल में हैं जबकि मैसूर और कोलकाता के पास मिदनापुर वाली प्रिटिंग प्रेस पर भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण लिमिटेड का नियंत्रण है। भारतीय नोटों को छापने के लिए पेपर नहीं बल्कि कॉटन का इस्तेमाल होता है जिसका निर्माण महाराष्ट्र के करंसी नोट प्रेस (CNP) और एमपी के होशंगाबाद पेपर मिल में होता है। कुछ पेपर को विदेशों से भी इम्पोर्ट किया जाता है। नोट को बनाने के लिए खास इंक का इस्तेमाल होता है। जिसे ऑफसेट इंक कहते हैं।

नोट कि छपाई के लिए पेपर शीट को सायमंटन नाम कि खास मशीन में डाला जाता है। इंक के लिए दूसरी मशीन होती है। शीट पर नोट छपने के बाद खराब नोटों की छंटनी कि जाती है। एक शीट में करीब 32 से 48 नोट छपते हैं जिसमें यूनिक कोड से नंबर डाले जाते हैं इसके पश्तात नोटों के बंडलों को पैक करके रिजर्व बैंक तक पहुंचाया जाता है।

ऐसे नोट पहुंचते हैं आपकी जेब तक –

देश में रिजर्व बैंक के 18 इश्यू ऑफिस हैं प्रिंटिंग प्रेस में नोटों कि छपाई के बाद नोटों को विशेष सुरक्षा के साथ इन इश्यू ऑफिसों तक पहुंचाया जाता है जहां से इन्हें कमिर्शियल बैंकों तक पहुंचाया जाता है। देश के अधिकतर क्षेत्रों में एटीएम तक पैसे पहुंचाने का काम एनसीआर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया नाम कि कंपनी करती है। वर्तमान में देश में कुल 2.2 लाख एटीएम और 8,800 कैश वैन हैं जो प्रत्येक एटीएम तक पैसा पहुंचाने की कोशिशों में लगी हुई है।

देखें वीडियोः प्रिटिंग प्रेस में कैसे छपते हैं यूरो  –

Leave a Reply

Your email address will not be published.