चीन बार्डर पर जवानों संग दीवाली मनाएंगे नरेंद्र मोदी, हर साल मनाते हैं कुछ ऐसी ही दीवाली

न्यूज़ट्रेंड वेब डेस्क: दीवाली का त्यौहार आ गया है, हर कोई इस त्यौहार को घर वालों और परिवार वालों के साथ मिलकर मनाता है। इस त्यौहार में हर व्यक्ति अपने घर वालों के साथ होता है, लेकिन बात करें प्रधानमंत्री मोदी की तो वो ऐसा नहीं करते हैं। वैसे तो नरेंद्र मोदी की हर एक बात सबसे अलग होती है और शायद यही वो वजह हैं जो उन्हें औरों से अलग बनाती है।

जहां एक तरफ पूरा देश अपने परिवार के साथ दीवाली का त्यौहार मनाता है तो नरेंद्र मोदी भारत सेना के जवानों के साथ इस त्यौहार को मनाना पसंद करते हैं। उन  लोगों के साथ जिनकी वजह से आप सुकून से घरों में बैठकर अपने परिवार के साथ मस्तियां कर रहे हैं।

बता दें कि हर बार की तरह इस बार भी पीएम मोदी जवानों के साथ दीवाली का त्यौहार मनाने वाले हैं। इस बार मोदी जी उत्तराखंड के हर्षिल बार्डर पर जवानों के साथ इस त्यौहार को मना रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी के साथ वहां पर सेना के प्रमुख बिपिन रावत और सेना के अन्य अधिकारी भी मौजूद रहेंगे। दीवाली मनाने के साथ मोदी वहां पर सेना की तैयारियों के साथ बॉर्डर पर इंफ्रास्ट्रक्चर में चल रहे कार्यों का भी निरीक्षण करेंगे।

बता दें कि हर्षिल बॉर्डर की तो यह भारत-चीन सीमा से करीब 45 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इसके पास ही गंगोत्री नेशनल पार्क है। इस जगह का नज़ारा भी मशहूर लाहौल-स्पीति की तरह ही है।

बता दें कि दीवाली पर जवानों के साथ सेलीब्रेशन के बाद नरेंद्र मोदी केदारनाथ मंदिर में भी दर्शन के लिए जाएंगे। जहां पर  प्रधानमंत्री वहां पर   चल रहे जीर्णोद्धार के कार्यक्रमों का भी जायजा लेंगे।

बात करें मोदी जी की तो जब से उन्होंने प्रधामंत्री पद संभाला है तभी से वह इस प्रकार के सभी त्यौहारों को सेना के साथ जाकर मनाते आए हैं, खासकर दीवाली। साल 2014 से आज तक उन्होंने यह त्यौहार जवानों के साथ ही मनाया है।

इससे पहले प्रधानमंत्री ने कहां मनाई है दिवाली

2014- सियाचिन में जवानों संग मनाई दिवाली

2015- अमृतसर के युद्ध स्मारक में मनाया दीवाली का त्यौहार

2016- चीन सीमा पर जवानों संग मनाई दिवाली

2017- एलओसी पर जवानों संग मनाई दिवाली

ये भी पढ़ें : कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का बड़ा बयान ‘राम मंदिर बनाए, लेकिन विवादित भूमि पर ही क्यों?’