छोटी दीपावली पर भूलकर भी नहीं करना चाहिए यह दो काम, वरना रूठ सकती हैं लक्ष्मी

भारत में हर तरफ दीपावली की तैयारियां हो रही हैं. हर किसी के घर में हफ्तों सफाई हुई और अब धनतेरस के बाद छोटी दीपावली की तैयारी में जुट गए हैं. इस दिन का भी खास महत्व होता है और छोटी दीपावली वाले दिन घर को हर तरह से शुद्ध कर लिया जाता है. हिंदू धर्म का सबसे लोकप्रिय त्योहार दीपावली का कार्यक्रम धनतेरस, छोटी दीपावली, दीपावली, परेवा और भाई दूज के साथ ही यह त्योहार खत्म होता है. इसके बाद भी दीपावली की धूम मची रहती है, मगर दीपावली के एक दिन पहले छोटी दीपावली का त्योहार मनाया जाता है. छोटी दीपावली पर भूलकर भी नहीं करना चाहिए यह दो काम, वरना आपके पास से आती हुई माता लक्ष्मी वापस जा सकती हैं. छोटी दीपावली की पूजा का भी खास महत्व होता है जो आपको पता होना चाहिए.

छोटी दीपावली पर भूलकर भी नहीं करना चाहिए यह दो काम

छोटी दीपावली को दो अलग-अलग नाम रूपचौदस या नरक चतुर्दशी के रूप में मनाते हैं. शास्त्रों के अनुसार, नरक चतुर्दशी या छोटी दीपावली का महत्व कलयुग में मानव योनी में उत्पन्न होने वालों के लिये बहुत ज्यादा उपयोगी है. कलयुगी मानव ना चाहते हुए भी कई पापों का शिकार हो जाते हैं र इसलिए यह बात बहुत जरूरी है कि कलयुगी जीव इस दिन के नियमों और महत्व को समझना चाहिए. इस दिन सूर्योदय से पहले उठकर तेल लगाना चाहिए और नहाने के बाद विष्णु मंदिर या कृष्ण मंदिर में भगवान का दर्शन जरूर करना चाहिए. इससे व्यक्ति का पाप कटता है और रूप सौन्दर्य की प्राप्ति करता है. ऐसे में अगर आपने इन दो कामों को करने बचेंगे तो आपका त्योहार बहुत अच्छा रहेगा वरना आपकी जेब भी खाली हो सकती है. या फिर आपका लक्ष्मी माता आपसे रूठ भी सकती है.

1. छोटी दीपावली के दिन माता लक्ष्मी पृथ्वी पर आती है और अपने भक्तों की मन की मनोकामनाओं को पूरा करती है. छोटी दीपावली के दिन भूलकर भी कर्ज नहीं लेना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से माता लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं. इस दिन ना किसी से कर्ज लेना चाहिए और ना ही किसी को कर्ज देना चाहिए.

2. माता लक्ष्मी पृथ्वी पर अपने भक्तों के सामने किसी भी रूप में आ सकती हैं. ऐसा माना जाता है कि इस दिन माता लक्ष्मी अपने भक्तों की परीक्षा लेने आती हैं और ऐसे में अगर आपने कुछ ऐसा किया जो उन्हें पसंद नहीं आया तो वो रूठ सकती हैं. अगर आपके घर रूपचौदस के दिन कोई दान मांगने आता है तो उन्हें कभी खाली हाथ नहीं जाने देना चाहिए.

यह भी पढ़ें : धनतेरस पर क्यों करते हैं खरीदारी और क्या होता है यम के दीपक की परंपरा, यहां जानिए