बचपन में हिट लेकिन बड़े होकर फ्लॉप हुए 9 बॉलीवुड स्टार्स,बहुत टैलेंटेड थी नंबर 2 वाली हीरोइन

न्यूज़ट्रेन्ड बॉलीवुड डेस्क- इंडस्ट्री में कई ऐसे कलाकार मौजूद हैं जिन्होंने बॉलीवुड में अपना डेब्यू बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट किया था. जहां चाइल्ड आर्टिस्ट से डेब्यू करने वाले कुछ बच्चे बड़े होकर स्टार बन गए वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो बचपन में तो हिट थे लेकिन बड़े होने पर उनकी नैया पार नहीं हो पाई. आज के इस पोस्ट में हम बॉलीवुड के उन स्टार्स की बात करेंगे जिन्होंने बचपन में अपने काम से तो खूब वाहवाही लूटी लेकिन बड़े होने के बाद उन्हें दर्शकों से उतना प्यार नहीं मिला जिसके वह हक़दार थे. कुछ की गिनती तो फ्लॉप एक्टर्स में होने लगी. आज के इस पोस्ट में हम बॉलीवुड के कुछ ऐसे ही सितारों के बारे में बात करने जा रहे हैं जो बचपन में तो हिट थे लेकिन बड़े होने पर फ्लॉप हो गए.

इमरान खान

इमरान खान ने फिल्म ‘जो जीता वही सिकंदर’ और ‘कयामत से कयामत तक’ में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम किया था. बचपन में लोगों ने तो उनके काम को बहुत सराहा लेकिन बड़े होने पर उनका जादू चल नहीं पाया. फिल्म ‘जाने तू या जाने ना’ को छोड़कर उनकी अब तक की सभी फिल्में फ्लॉप रही हैं.

उर्मिला मांतोडकर

रंगीला गर्ल उर्मिला मांतोडकर वैसे तो बॉलीवुड की जानी-मानी हीरोइन हैं लेकिन उन्हें वह मुकाम हासिल नहीं हुआ जिसकी वह हक़दार थीं. उन्होंने ‘कलयुग’ और ‘मासूम’ में चाइल्ड आर्टिस्ट के रूप में काम किया था. इन फिल्मों के लिए उन्हें दर्शकों से भरपूर प्यार मिला था.

जुगल हंसराज

नीली आंखें और गुड लुक्स होने के बावजूद जुगल हंसराज का जादू दर्शकों पर चल नहीं पाया. वह फिल्म ‘मासूम’ में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट नजर आये थे जिसे दर्शकों ने काफी पसंद किया था. लेकिन बड़े होने के बाद उन्हें कुछ ख़ास सफलता नहीं मिली.

हंसिका मोटवानी

भले ही हंसिका आज साउथ की जानी-मानी अभिनेत्री बन चुकी हैं लेकिन बॉलीवुड में उन्हें कुछ खास सफलता नहीं मिली. उन्हें ‘कोई मिल गया’, ‘जागो’ और ‘हवा’ जैसी फिल्मों में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट दर्शकों से बहुत प्यार मिला था.

कुणाल खेमू

कुणाल खेमू ने बचपन में ‘हम हैं राही प्यार के’, ‘राजा हिंदुस्तानी’, ‘भाई’ और ‘जुड़वा’ जैसी फिल्मों में दमदार अभिनय किया था. लेकिन बड़े होने के बाद उन्हें वह सफलता नहीं मिली जिसकी उम्मीद थी. हालांकि ‘ढोल’, ‘ट्रैफिक सिग्नल’ और ‘धमाल’ जैसी फिल्मों में उनके काम को सराहा गया है.

सना सईद

 

फिल्म ‘कुछ कुछ होता है’ में अंजली का किरदार निभाकर सना ने खूब वाहवाही बटोरी थी. लेकिन बड़े होने के बाद वह कुछ ख़ास कमाल नहीं कर पाईं. हालांकि उन्होंने ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ और ‘फुगली’ जैसी फिल्मों में काम किया लेकिन उनके काम को सराहा नहीं गया.

ओंकार कपूर

ओंकार कपूर ने बचपन में ‘जुदाई’, ‘जुड़वा’ और ‘हीरो नंबर 1’ जैसी फिल्मों में अपने अभिनय से दर्शकों का दिल जीता था लेकिन बड़े होने के बाद उनका जादू नहीं चल पाया. ओंकार कपूर ‘प्यार का पंचनामा 2’ में काम कर चुके हैं.

आफताब शिवदासानी

आफताब शिवदासानी बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट ‘मिस्टर इंडिया’, ‘चालबाज़’, ‘शहनशाह’ जैसी सुपरहिट फिल्मों में काम कर चुके हैं लेकिन हीरो के रूप में दर्शकों को रास नहीं आये.

आदित्य नारायण

आदित्य नारायण आज बॉलीवुड के फेमस सिंगर हैं लेकिन बचपन में वह अपने अभिनय का जलवा भी बिखेर चुके हैं. आदित्य बचपन में ‘परदेस’, ‘अकेले हम अकेले तुम’ और ‘जब प्यार किसी से होता है’ जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं. लेकिन जब बड़े होकर फिल्म में काम किया तो उन्हें असफलता हाथ लगी. बता दें, वह बॉलीवुड फिल्म ‘शापित’ से डेब्यू कर चुके हैं.

परजान दस्तूर

‘कुछ कुछ होता है’, ‘जुबैदा’ और ‘मोहब्बतें’ जैसी फिल्मों में अपना जादू बिखेर चुके परजान दस्तूर बड़े होकर कुछ ख़ास कमाल नहीं कर पाए. हालांकि वह ‘ब्रेक के बाद’, ‘सिकंदर’ और ‘परजानिया’ जैसी फिल्मों में नजर आये लेकिन दर्शकों ने उन्हें बतौर हीरो स्वीकार नहीं किया.

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा. पसंद आने पर लाइक और शेयर करना ना भूलें.