सेकंड हैंड कार खरीदते समय इन 4 बातों का रखें ध्यान, भुलकर भी ना करें ये ऐसी गलतियां

बहुत से लोगों का सपना होता है कि उनके पास खुद की कार हो। ज्यादातर लोग नई कार खरीदने में दिलचस्पी रखते हैं वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो कार खरीदना तो चाहते हैं लेकिन बजट कम होने की वजह से उनके लिए नई कार लेना थोड़ा मुश्किल होता है। ऐसे में वे सेकंड हैंड कार खरीदने का प्लान बनाते हैं। काफी लोग ड्राइविंग सीखनेेे के लिए भी नई कार की बजाय पुरानी सेकंड हैंड कार लेेेते हैं। लेकिन जब लोग सेकंड हैंड कार खरीदते हैं तो बहुत सी गलतियांं कर देते हैं जिसका खामियाजा उन्हें बाद में भुगतना पड़ता है। अगर आप भी सेकंड हैंड कार खरीदने के बारे में सोच रहे हैं तो आप सही जगह आए हो, दरअसल आज हम आपको बताएंगे कि सेकंड हैंड कार खरीदते वक्त किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए और कौन कौन सी चीजें चेक करके ही सेकंड हैंड कार खरीदनी चाहिए।

आजकल हर छोटी से छोटी चीज से लेकर बड़ी से बड़ी कार तक आपको ऑनलाइन मिल जाएगी। अगर आप इंटरनेट पर ऑनलाइन अपनी कार बेचना चाहते हैं तो आपको हजारों की संख्या में खरीददार मिल जाएंगे वहीं अगर आप खुद के लिए कोई नई अथवा सेकंड हैंड कार खरीदना चाहते हैं तो भी आपको कई ऑप्शन मिल जायेंगे। आजकल इंटरनेट पर ऐसी कई वेबसाइट है जो गाडियां खरीदने और बेचने का काम करती हैं। आप अपनी पसंद और बजट के हिसाब से जो मर्जी चाहे कार खरीद सकते हो आपको उस वेबसाइट पर सामने वाले का फोन नंबर मिल जाता है जिससे बात करके आप आगे की डील कर सकते हैं।

जब भी आप किसी वेबसाइट पर पुरानी कार को देखकर उसे खरीदने का मन बनाए तो एक बार उस कार की टेस्ट ड्राइव जरूर कर लें ताकि आपको पता चल सके कि कार आपके लिए सही है या नहीं। अगर आपको टेस्ट ड्राइव करते समय कार में कुछ खामी नजर आए तो उस कार को ना खरीदें।

अक्सर कुछ साल बाद बड़ी कार कंपनियां अपने पुराने मॉडल को बंद कर देती है इसलिए जब भी आप किसी कार को खरीदें तो यह भली-भांति जान ले कि कहीं वह कार मॉडल कंपनी ने बंद तो नहीं कर दिया। दरअसल होता यह है कि जिन कारों के मॉडल बाजार में आने बंद हो जाते हैं उनकी कीमत काफी डाउन हो जाती है साथ ही जब भी आपकी कार का कोई पार्ट खराब हो जाता है तो वह मार्केट में आसानी से नहीं मिलता जिससे आपको सर्विस के दौरान काफी परेशानी उठानी पड़ती हैं।

किसी भी वाहन के डॉक्युमेंट्स बहुत जरूरी चीज होते हैं जिनकी हमें बहुत सी जगह आवश्यकता पड़ती हैं इसलिए पुरानी गाड़ी लेने से पहले उसके सभी कागजात अच्छी तरह चेक करें और सब डिटेल जान ले, जैसे गाड़ी का प्रीमियम भरा गया है या नहीं, उसका इंश्योरेंस हैं या नहीं इत्यादि। साथ ही रोड टैक्स के पेपर्स तथा गाड़ी के ओरिजिनल इनवॉयस के बारे में भी पूछे।

अगर आप सही समय और सही प्लानिंग के साथ कार खरीदें तो आपको काफी लाभ मिल सकता है। अगर कार खरीदने के सही समय की बात करें तो आप कोशिश करें कि साल खत्म होने से पहले ही पुरानी कार खरीदें क्योंकि इसमेें आपको काफी बचत होगी। दरअसल होता यह है कि साल खत्म होने के बाद गाड़ी का मॉडल पुराना हो जाता है जिससे उसकी कीमत में गिरावट आती हैं।