नोटबंदीः अंतरराष्ट्रीय मीडिया की इस शानदार प्रतिक्रिया से हो जाएंगे विरोधियों के मुंह बंद!

नई दिल्ली – अंतरराष्ट्रीय मीडिया द्वारा मोदी सरकार के मुद्रा प्रतिबंध के निर्णय पर व्यक्त प्रतिक्रिया दुनिया की अर्थव्यवस्था पर इस ऐतिहासिक निर्णय के प्रभाव को दर्शाती है और साथ ही इससे भविष्य में भारत में भ्रष्टाचार और कालेधन को रोकने में मदद मिलेगी यह भी स्पष्ट होता है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष, यूरोपीय संघ, विश्व बैंक और हर प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय संगठनों ने इस कदम का समर्थन किया है, यहां तक कि इस संबंध में विश्व बैंक के अध्यक्ष ने भी कहा है कि, मैं मोदी का बड़ा प्रशंसक हूँ! Response International Media Demonetization.

देखिए किस तरह अंतरराष्ट्रीय मीडिया पीएम मोदी के इस साहसिक और ऐतिहासिक कदम की तारीफ कर रही है –

फोर्ब्स: निर्णय के बाद पांच दिन बाद, फोर्ब्स ने “India’s Great Bank Note Switch Appears To Be Working – $30 Billion In Rs Deposited In Banks.” शीर्षक से एक लेख प्रकाशित किया है। इस लेख में फोर्ब्स ने लिखा हैं कि नोटबंदी के कारण भारत में व्याप्त “स्पष्ट अराजकता” में निश्चित ही कमी होगी, “अब तक इसके परीणाम शानदार रहे हैं।” लेख में इस योजना को “अच्छा ही बल्कि, एक चतुर योजना” कहा गया है।

न्यूयॉर्क टाइम्स: न्यूयॉर्क टाइम्स के एक विशेषज्ञ ने लेख के माध्यम से कहा है कि यह एक बुद्धिमानी भरी चाल थी। “योजना, मोदी की घोषणा तक गुप्त रही, वित्तीय विश्लेषकों ने नोटबंदी का भारत के लिए बोल्ड और संभावित परिवर्तन के रुप में स्वागत किया। यह वास्तव में मोदी सरकार द्वारा एक बड़ा दांव है।”

वाशिंगटन पोस्ट: वाशिंगटन पोस्ट में कहा गया है कि, यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘महत्वाकांक्षी’ पहल है और चुनाव के समय काले धन के खिलाफ कार्रवाई करने के वादे का आरंभ है। पोस्ट ने कहा कि भारत में काले धन ‘$400 अरब से अधिक 1$ खरब तक होने का अनुमान है।’

इन्डिपेन्डेन्ट: यह सिंगापुर आधारित न्यूजपेपर ने “Modi does a Lee Kuan Yew to stamp out corruption in India.” शीर्षक से इस कदम पर एक शानदार लेख प्रकाशित किया है।  ली कुआन यू कई दशकों तक सिंगापुर के प्रधानमंत्री रहे और उन्हें आधुनिक सिंगापुर का निर्माता माना जाता है। नेताओं का मानना है कि भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा अचानक किये गए इस फैसले से देश कि जनता में उनके लिए सम्मान में वृद्धि होगी।

ब्लूमबर्ग: स्विस वैश्विक वित्तीय सेवा कंपनी यूबीएस एजी समूह की प्रमुख अमेरिकी वित्तीय पत्रिका ब्लूमबर्ग में प्रकाशित एक लेख में कहा गया है कि ऑस्ट्रेलिया को भारत का अनुसरण करना चाहिए और अपने बड़े नोटों को स्क्रैप कर देना चाहिए।

यूबीएस विश्लेषक जोनाथन मोट ने सोमवार को कहा कि, “ऑस्ट्रेलिया में बड़े नोटों को बैन करना अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा है और होगा।” इससे अपराध में कमी और धोखाधड़ी, राजस्व कर में वृद्धि जैसे अनेकों लाभ मिलेंगे।

“एक वरिष्ठ भारतीय सरकारी अधिकारी ने भी मोदी की तुलना सिंगापुर के प्रथम प्रधानमंत्री ली कुआन यू से की है। अधिकारी ने कहा कि 8 नवंम्बर को मोदी द्वारा नोटबंदी कि घोषणा करने के बाद भारत में एक नए ली कुआन यू का जन्म हुआ है। यह प्रधानमंत्री मोदी की विलक्षण क्षमता परिलक्षित करता है।”

पाठकों से हमारा विनम्र अनुरोध है कि कृपया इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा साझा करें ताकि लोगों को वास्तविकता पता चले और दुनिया इस निर्णय को कैसे देखती है ये भी समझ सके!

Leave a Reply

Your email address will not be published.