ब्रेन टीबी होने से पहले शरीर देता है ये संकेत, जान लें वरना जा सकती है जान

टीबी जिसका पूरा नाम है ट्यूबरक्लोसिस, यह एक बहुत ही घातक बीमारी है मगर आमतौर पर लोग इस बीमारी को काफी हल्के में लेते है और जब काफी देर हो जाती है तो यही सामान्य सी लाग्ने वाली बीमारी जानलेवा हो जाती है। आमतौर पर लोग यही जानते है की टीबी फेफड़ों से जुड़ी बीमारी है मगर आपको बता दें की ये सिर्फ हमारे फेफड़ों को ही नही बल्कि हमारे दिमाग को भी प्रभावित कर सकती है। ऐसा देखा गया है की शुरुवाती तौर पर ब्रेन टीबी का पता नहीं चलता मगर धीरे धीरे ये काफी बड़ा रूप लेने लगता है और बाद में बेहद ही साधारण सी लागने वाली ये बीमारी बहुत भयंकर बीमारी का रूप ले लेती है।

बताना चाहेंगे की इस बीमारी के लक्षण बहुत ही सामान्य होते हैं जिन पर यदि आप गौर ना करें तो आपको इसका पता भी नहीं चल अहै और ऐसे में ही देर हो जाती है। डॉक्टर के अनुसार इसके शुरुआती लक्षण काफी साधारण से होते हैं जैसे सीने में दर्द, कमजोरी महसूस होना, तेज खांसी, कफ आना, भूख न लगना, सांस लेने में तकलीफ और बुखार होने लगता है और आमतौर पर लोग इस तरह की बातों को काफी हल्के में लेते हैं और कुछ सामान्य सी दावा ले कर काम चला लेते हैं। लेकिन आपको यह भी बता दें की अगर ये समस्या लंबे समय तक रह जाए तो परेशानी हो सकती है और कभी कभी यह जानलेवा भी साबित हो सकता है।

टीबी के लक्षण

  • लगातार 3 हफ्ते तक खांसी का आना
  • सामान्य रूप से भूख नहीं लगना
  • वजन का कम होना
  • सर्दी और बुखार लगना
  • सांस लेने में समस्या होना
  • गर्दन की ग्रंथियों में सूजन
  • सीने में दर्द या तकलीफ होना

टीबी के कुछ घरेलू उपाय

आपकी सही आहार ब्रेन टीबी जैसे गंभीर बीमारी के इलाज में अहम भूमिका निभा सकती है। इसके लिए यह बेहद ही आवश्यक है की मरीज अपने रोजाना की डाइट में ताजे फल, सब्जियां और काफी मात्रा में प्रोटीन आदि खास तरह के पोषक तत्वों को जरूर शामिल करें, इनसे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है साथ ही साथ बीमारी से लड़ने में मदद मिलती है। इसके अलावा आप कुछ बेहद ही असरदारी और कारगर उपाय कर सकते हैं जो निश्चित रूप से ब्रेन टीबी की समस्या को ठीक कर देगा।

संतरा

आपको बता दें की टीबी रोग होने पर मरीज को ताजा संतरे के जूस में नमक और शहद मिलाकर रोज नियम से सुबह और शाम के वक़्त जरूर पिलाना चाहिए, बता दें की संतरा खाने से भी टी बी के रोगी को काफी फायदा होता है।

लहसुन

कहा जाता है की लहसुन टीबी के रोगियों के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद होता है, असल में लहसुन में सल्फयूरिक एसिड पाया जाता है जो टीबी के कीटाणुओं को खत्म करने में मदद करता है। टीबी की बीमारी के दौरान आप आधा चम्मच लहसुन, 1 कप दूध और 4 कप पानी को एक साथ उबालकर इसे नियम से प्रतिदिन 3 से 4 बार पीने से आपकी टीबी की बीमारी दूर हो जाएगी।

शहद

आप चाहें तो 200 ग्राम शहद में 200 ग्राम मिश्री तथा 100 ग्राम घी को अच्छी तरह मिक्स कर लें और हर दिन इसे कम से कम 2-3 बार इसे टीबी मरीज को चटाए और फिर अगर संभव हो तो इसके बाद गाय या बकरी का दूध पिला दें, यह घरेलू उपाय काफी कारगर माना गया है।