पीएम नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन पहुंची बैंक, आम आदमी की तरह बदले नोट

नई दिल्ली – प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन आज रायसण की ओरिएंटल बैंक में सामान्य नागरिक की तरह नोट बदलवाने पहुंची। उनके साथ परिवार के अन्य सदस्य भी थे। सभी अपनी 500 की पुरानी नोट बदलवाने आए थे। बैंक में पहुंचकर सभी ने लाइन पर लगकर नोट बदलवाए। हीरा हीराबेन ने भी फार्म पर अंगूठा लगाकर 4500 रुपए चेंज करवाए। उन्हें देखने के लिए बैंक में भीड़ लग गई। Heeraben Modi reaches bank to exchange money.

गौरतलब है कि पांच सौ और हजार के नोटों को गैर कानूनी ठहराए जाने के बाद देश भर में इस मुद्दे पर चर्चा गर्म है। विपक्षी दल केंद्र पर आम लोगों के सामने आ रही दिक्कतों का हवाला देते हुए हमलावर हैं, तो वहीं लंबी कतारों में खड़े लोग व्यवस्था की शिकायत कर रहे हैं।

 Heeraben Modi reaches bank to exchange money

खुद लाइन में लगकर बदलाएं नोट –

ऐसे हालात में जब नोटबंदी पर देश में माहौल गर्म है पीएम की मां का खुद बैंक जाकर नोट बदलवाना एक बड़ा संदेश देता है कि सभी को सरकार के इस फैसले का समर्थन करना चाहिए। 97 साल की बुजुर्ग हीराबेन को देख यहां मौजूद लोग हैरान रह गए। कुछ लोग सहारा देकर उन्हें बैंक लाए थे। इस दौरान कुछ लोग यहां उनका आशीर्वाद लेते भी दिखाई दिए। उन्हें 2000 का एक नोट, पांच 100-100 के नोट और 10-10 रुपये की दो गड्डी दी गई।

mother-hiraben-newstrend-15-11-20165

हीराबेन के साथ उनके बेटे पंकज मोदी थे। बैंक आकर हीराबेन वरिष्ठ नागरिकों की लाइन में खड़ी हुईं और अपनी बारी आने पर उन्होंने पैसे बदलवाए।

जहाँ देश के बड़े नेता लाइन में खड़े होकर राजनीति कर रहे हैं वहीँ माँ हीराबेन ने साबित किया कि देश की भलाई के लिए वह कुछ भी कर सकती हैं.

 

ATM से 2000-500 के नोट मिलने शुरू –

नोट बंदी से लोगों को आ रही परेशानियां आज से थोड़ी कम हुई हैं। कल गुरुनानक जयंती की छुट्टी के बाद आज से बैंक फिर खुल गए है। लोग आज नोट बदलने, कैश डिपॉजिट या फिर कैश निकालने जैसी ज़रूरतों को पूरा कर सकते हैं। इसके अलावा सरकार ने रविवार को एटीएम और बैंकों से धनराशि निकासी की सीमा बढ़ाने की घोषणा कर दी थी। आज से लोग एटीएम से 2,000 रुपये की बजाय 2,500 रुपये निकाल रहे हैं। वहीं बैंकों में नोट बदलने की सीमा 4000 रुपये से बढ़ाकर 4500 रुपये कर दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.