रोमांस के पहले किंग को नहीं मिली थी प्यार में मंजिल, जानिए इस अभिनेता के प्यार की कहानी

जब भी हम बॉलीवुड में रोमांस के किंग के बारे में बात करते हैं तो सबके मन में शाहरुख खान का नाम आता है लेकिन शायद ही कोई जानता हो कि अभिनेता देव आनंद को पहले रोमांस के किंग का ताज मिल चुका है. उन्होंने अपने फिल्मी करियर में एक से बढ़कर एक रोमांटिक किरदार निभाए थे. आज भले ही वे हमारे बीच नहीं रहे लेकिन उनका अहसास आज भी इंडस्ट्री की वादियों में फैला है. देव आनंद साहब ने फिल्मों में अभिनय से लेकर निर्देशन सभी काम संभाला और दो अभिनेत्रियों के बीच प्यार भी रहा लेकिन पहले रोमांस के किंग को नहीं मिली थी प्यार में मंजिल, इनमें से एक हीरोइन के प्यार में तो देव आनंद पागल थे लेकिन अपने ही दोस्त ने उन्हें धोखा दे दिया था.

पहले रोमांस के किंग को नहीं मिली थी प्यार में मंजिल

देव आनंद का जन्म 26 सितंबर, 1923 को ब्रिटिश इंडिया के पंजाब में एक वकील पिशौरी लाल आनंद के घर हुआ था. इनके पिता डिस्ट्रिक कोर्ट में कार्यरत थे. देव आनंद की शुरुआती पढ़ाई ब्रिटिश इंडिया के गवर्मेंट कॉलेज ऑफ लाहौर से इंग्लिश लिट्रेचर से ग्रेजुएशन किया. आपको शायद ही ये पता हो कि इऩका पूरा नाम धर्मदेव पिशौरीमल आनंद था. अब चलिए बताते हैं इनके जीवन से जुड़ी दिलचस्प बातें.

1. ग्रेजुएशन के बाद देव आनंद ने घर छोड़ दिया था और साल 1940 में बॉम्बे आ गए थे. यहां इनकी मुलाकात अशोक कुमार से हुई और उन्होंने देव आनंद को थिएटर में काम करने का मौका दिया था.

2. इनकी पहली फिल्म हम एक हैं (1946) थी. इसमें उनके को-स्टार रहे उस समय के सुपरस्टार देवदत्त ने देव साहब का अभिनय देखकर कहा था कि वे एक दिन सुपरस्टार बनेंगे.

3. देव आनंद ने हर अभिनेत्री के साथ रोमांस किया है लेकिन उनका दिल पहले अभिनेत्री सुरैया पर आया था. इनसे ये शादी करना चाहते थे लेकिन सुरैया के घरवाले नहीं माने और यहां देव साहब का दिल टूट गया.

4. देव साहब को दूसरा प्यार जीनत अमान के साथ हुआ था. उन्होंने जीनत को अपनी फिल्म हरे रामा हरे कृष्णा में लीड एक्ट्रेस के तौर पर रोल दिया. इसमें वे जीनत के भाई बने थे लेकिन असल में वे जीनत को प्यार करते थे.

5. देव आनंद ने जीनत को प्रपोज करने के लिए एक पार्टी दी जिसमें उनके दोस्त राजकपूर और दिलीप कुमार भी आए थे. इसमें जैसे ही देव साहब जीनत को प्रपोज करने के लिए आगे बढ़े तब उन्होंने जीनत और राजकपूर एक-दूसके को गले लगाए थे. देव साहब ने उसी समय पार्टी छोड़ दी और वापस घर आ गए इसी के कुछ समय बाद कल्पना कार्तिक के साथ शादी कर ली थी. इनके दो बच्चे सुनील और देबिना आनंद हुए थे.

6. देव आनंद ने जॉनी मेरा नाम, गाइड, प्रेम पुजारी, गैमलर, फंटूश्श, काला पानी, छुपा रुस्तम, तीन देवियां, जेवेल थीफ, असली नकली, सीआईडी, देश-परदेश, हम दोनों और हरे रामा हरे कृष्णा जैसी कई पॉपुलर फिल्मों में काम किया था.

7. देव आनंद को साल 2011 में पद्मभूषण और साल 2002 में दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था. इसके अलावा इऩ्हें दो बार फिल्मफेयर अवॉर्ड, एक नेशनल अवॉर्ड्स और कई दूसरे कैटेगरी में अवॉर्ड्स मिल चुके हैं.

8. साल 2011 में देव आनंद को लंग इंफैक्शन की शिकायत आ गई थी जिसके इलाज के लिए ये लंदन गए थे. यहां 3 दिसंबर को इऩ्हें हार्ट अटैक आ गया और उसी दौरान इनका निधन हो गया था.