जासूसी के आरोप में गिरफ़्तार चीनी नागरिक, भारतीय लड़की से रचाई थी शादी

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने हाल ही में एक चीनी नागरिक को जासूसी के शक में गिरफ़्तार किया है। चीनी नागरिक के पास से भारतीय पासपोर्ट भी बरामद किया गया। बता दें इस चीनी नागरिक को दिल्ली पुलिस ने 13 सितम्बर को ही गिरफ़्तार किया था। चीनी नागरिक का नाम चार्ली पेंग बताया जा रहा है। पुलिस ने हैरान करने वाली जानकारी दी है, कि पेंग पिछले 5 साल से भारत में ही रह रहा है। पुलिस को यह भी शक है कि चार्ली के तार हवाला कारोबारियों से भी जुड़े हो सकते हैं। हालाँकि अभी पुलिस सबूत जुटाने में लगी है।

13 सितम्बर के बाद से ही है पुलिस कस्टडी में:

पेंग के पास से केवल भारतीय पासपोर्ट ही नहीं बल्कि आधार कार्ड भी बरामद किया गया है। बता दें आरोपी पेंग के पास एक फ़ोर्च्यूनर कार, साढ़े तीन लाख भारतीय करेंसी, 2000 डॉलर और 22 हज़ार थाई करेंसी भी मिली। चीनी नागरिक को जासूसी के आरोप में गिरफ़्तार किए जानें के बाद दिल्ली पुलिस इस बात की जाँच कर रही है कि आख़िर इस व्यक्ति के पास भारतीय पासपोर्ट और आधार कार्ड कहाँ से आया। पेंग 13 सितम्बर के बाद से ही पुलिस कस्टडी में है।

पुलिस भी थी अबतक इस बात से अनजान:

चीनी नागरिक चार्ली के भारत में रहने पर भी कई सवाल खड़े हो रहे हैं। ख़ासतौर पर ऐसे समय में जब भारत और चीन के रिश्ते कुछ ज़्यादा अच्छे नहीं है। आपको बता दें फ़िलहाल जो प्राथमिक जानकारी आ रही है, उसके अनुसार चार्ली का पासपोर्ट मणिपुर से जारी किया गया है। जबकि आधार कार्ड पर दिल्ली के द्वारका क्षेत्र का पता है। बताया जा रहा है कि चार्ली हरियाणा के गुरूग्राम के पॉश इलाक़े डीएलएफ़ में रह रहा था और वहीं से वह अपनी कम्पनी चला रहा था। सबसे हैरानी कि बात ये है कि स्थानीय पुलिस भी इससे अबतक अनजान थी।

आपको बता दें चार्ली ने मणिपुर में एक भारतीय लड़की से शादी की और वहाँ से पासपोर्ट बनवाने में कामयाब हुआ। उसके बारे में बताया जाता है कि वह मनी इक्स्चेंज का भी काम करता था। इससे पहले दिल्ली से सटे हुए उत्तर प्रदेश में मेरठ जिले में पिछले सप्ताह हाजी याकूब क़ुरैशी के मीट प्लांट का भ्रमण करने आए चीनी नागरिकों ने नशे में धूट होकर सड़क पर गाड़ी दौड़ाई थी। इस वजह से दर्जनों लोग घायल हो गए थे। लोगों के हंगामें के बाद चीनी नगरिकोंके साथ ही टूरिस्ट गाइड को भी हिरासत में लिया गया था।

91.88 लाख के सोने के साथ हुआ था गिरफ़्तार:

जानकारी के अनुसार चीन के हुनान प्रांत के रहने वाले ज़ू और शाया मेरठ के मंगल पांडेय नगर में कुछ दिनों से रह रहे थे। वहाँ वह मीट फ़ैक्टरी से कारोबारी डील के लिए रुके हुए थे। एसपी सिटी रणविजय सिंह ने बताया था कि हादसे के समय चीनी नागरिक नशे में धुत्त थे और उनके बदन पर नाम मात्र के ही कपड़े थे। वहीं इसी साल फ़रवरी में दिल्ली एयरपोर्ट पर चीनी नागरिक द्वारा 91.88 लाख रुपए के सोने के साथ गिरफ़्तार किया गया था। इसी से पता चलता है कि चीनी भारत को अपने अवैध व्यापार के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं।