विशेष

सड़क पर भिखारी बनकर,भिखारियों के साथ खाना खा रहा था यह अंग्रेज, असलियत पता चली तो लोग दंग रह गए

कहते हैं कि जब व्यक्ति सफलता की ऊंचाइयों को चूमता है तो उसके पैर हमेशा जमीन पर ही रहने चाहिए. क्योंकि अक्सर देखा गया है कि सफल हो जाने पर व्यक्ति भूल जाता है कि इस मुकाम तक पहुंचने के लिए उसने किन-किन कठिनाइयों का सामना किया है. यह बात किसी ने बिलकुल सच कही है कि व्यक्ति को उसका बुरा दिन कभी नहीं भूलना चाहिए. क्योंकि यदि उसे याद रहेगा कि वह किन हालातों से गुजर चुका है तभी वह जमीन से जुड़ा रहेगा और किसी दूसरे साथ गलत व्यवहार नहीं करेगा. शोहरत का नशा सबसे खराब नशा होता है. कुछ लोग ऐसे होते हैं जो कामयाबी हासिल करने के बावजूद एक साधारण जिंदगी व्यतीत करते हैं और उनमें घमंड का नामोनिशान नहीं होता. वहीं, कुछ लोग ऐसे होते हैं जो कामयाब तो हो जाते हैं लेकिन उनमें घमंड कूट-कूट कर भर जाता है. इसके अलावा, कई लोग ऐसे भी होते हैं जो जितनी ऊंचाइयों को छूते हैं उनका मन अंदर से उतना ही आम होता चला जाता है. बहुत बार ऐसा भी होता है जब इंसान नाम और शोहरत तो कमा लेता है लेकिन अंदर से उसका मन शांत नहीं रहता. इसलिए ऐसे लोग मन को शांत करने के लिए ऐसे-ऐसे काम करते हैं जो आम आदमी के लिए हैरानी का सबब बन जाती है. आजकल सोशल मीडिया पर एक ऐसी तस्वीर वायरल हो रही है जिसने हर किसी को हैरत में डाल दिया है. इस तस्वीर को देखने के बाद आपके होश उड़ जाएंगे और आप कह पड़ेंगे कि वाह क्या बात है! बता दें, इन दिनों सोशल मीडिया पर एक तस्वीर तेजी से वायरल हो रही है जिसमें एक अंग्रेज सड़क के किनारे गरीबों के साथ बैठकर खाना खा रहा है.

तस्वीर हो गयी वायरल

ये तस्वीर इतनी वायरल हो गयी कि लोग इस अंग्रेज के बारे में पूछने लगे. वह जानना चाहते थे कि ये व्यक्ति कौन है और वह इस तरीके से रोड पर बैठकर खाना क्यों खा रहा है. लोग इस व्यक्ति के बारे में जानने के लिए और भी ज्यादा उत्सुक इसलिए हो गए क्योंकि ये व्यक्ति अपने पहनावे या फिर शक्ल से भिखारी नहीं लग रहा था. तो फिर वह आखिर इस तरह की हरकत क्यों कर रहा था. क्यों वह भिखारियों की तरह हाथ में बर्तन लिए सड़क के किनारे बैठकर खाना खा रहा था? चलिए पूरी कहानी हम आपको बताते हैं.

बता दें, इस व्यक्ति का नाम ज्यां द्रेज है. बेल्जियम में जन्में ज्यां आजकल भारत में रह रहे हैं. वह यहां एक अर्थशास्त्री के तौर पर काम करते हैं. इतना ही नहीं, वह रांची की एक यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर भी हैं और साथ ही वह सरकार को कानूनी दांव पेंच और भविष्य की अर्थव्यवस्था को समझने में उनकी मदद करते हैं. हाल ही की बात है जब कुछ गरीब मनरेगा के लिए आंदोलन करने आये थे उस वक्त उनका समर्थन करते हुए ज्यां द्रेज भी उनके साथ धरने पर बैठ गए थे. इसके बाद उन्होंने अपना पूरा समय उन लोगों के साथ बिताया और उसी दौरान ये तस्वीर खींची गई.

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा. पसंद आने पर लाइक और शेयर करना ना भूलें.

Back to top button