विशेष

पाकिस्तानी आर्मी चीफ़ बाजवा ने दी भारत को धमकी, कहा कुछ ऐसा कि खौल उठेगा आपका ख़ून

नई दिल्ली: भारत और पाकिस्तान के रिश्तों के बारे में सभी लोग जानते हैं। दोनो देश कभी एक हुआ करते थे, लेकिन बँटवारे के बाद पाकिस्तान भारत को अपना सबसे बड़ा दुश्मन समझता है। हालाँकि भारत ने कई बार पाकिस्तान की तरफ़ दोस्ती का हाथ भी बढ़ाया, लेकिन हर बार पाकिस्तान ने भारत की पीठ में ख़ंजर घोपा। कश्मीर के मुद्दे पर दोनो देशों के बीच विवाद हुआ है। जहाँ पाकिस्तान कश्मीर को अपना अंग बताता रहा है, वहीं भारत का कहना है किकश्मीर भारत का अभिन्न अंग है।

इसी मुद्दे पर दोनो देशों के बीच काफ़ी समय से विवाद बना हुआ है। भारत के साथ 1965 के युद्ध की 53वीं वर्षगाँठ के मौक़े पर पाकिस्तान के एक बार फिर यह साबित कर दिया है कि वह अपनी हरकतों से कभी बाज़ नहीं आएगा। भारत भले ही कुछ कर ले लेकिन पाकिस्तान अपनी ज़िद नहीं छोड़ेगा। कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान कभी सुधर नहीं सकता है। पाकिस्तान के आर्मी चीफ़ कमर जावेद बाजवा ने अपनी बातों में कहा कि वो कश्मीर के भाइयों और बहनों द्वारा उनकी आज़ादी की लड़ाई में दी जानें वाली क़ुर्बानी के लिए सलाम करता है।

भारत की कार्यवाई से बुरी तरह से बौखलाया है पाकिस्तान:

पाकिस्तानी आर्मी चीफ़ बाजवा ने भारत को धमकी देते हुए कहा कि पाकिस्तान की रक्षा में लगे हर सैनिक की क़ुर्बानी के मायने हैं। बाजवा ने कहा कि वह बॉर्डर पर बहे ख़ून की हर एक बूँद का हिसाब लेंगे। सीमापार आतंकवादियों के ख़िलाफ़ भारत की कार्यवाई से पाकिस्तान बौखला गया है। इसके साथ ही पाकिस्तान के ऊपर अपने देश की धरती का इस्तेमाल आतंकवादी संगठनों के लिए ना करने का भी दबाव बनाया जा रहा है। इसी वजह से पाकिस्तान और बौखला गया है और इसी बौखलाहट में उसने भारत को धमकी भी दे दी।

भारत से ख़ूनी बदला लेने का किया ऐलान:

पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष जनरल कमर जावेद बाजवा ने रावल पिंडी के जनरल मुख्यालय में रक्षा और शहीद दिवस के सम्बंध में मुख्य समारोह को सम्बोधित करते हुए भारत से ख़ूनी बदला लेने का ऐलान किया। बाजवा ने पाकिस्तान की सीमा पर बहे सैनिकों के ख़ून का बदला भारत से लेने की धमकी दी। पाकिस्तान रक्षा दिवस पर पाकिस्तान के नव-निर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी अपना सुर बदला और कहा कि पाकिस्तान शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व में विश्वास करता है और अपने पड़ोसियों एवं सारी दुनिया के साथ समानता के आधार पर पारस्परिक सहयोग को बढ़ावा देना चाहता है।

पाकिस्तान के दुश्मनोंने पाकिस्तान को तोड़ने की बहुत कोशिश की:

आपको बता दें कश्मीर के मुद्दे को लेकर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि क्षेत्र में शांति के लिए संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के तहत कश्मीर मुद्दे का समाधान निकालना बहुत ज़रूरी है। इमरान खान ने केवल यही नहीं कहा, बल्कि उन्होंने कहा कि सरकार और सेना के बीच एक मिथ्या प्रचार था जो अब ख़त्म हो चुका है। पिछले 15 सालों से पाकिस्तान के दुश्मनों ने पाकिस्तान को तोड़ने की काफ़ी कोशिश की, लेकिन वो अपनी इस कोशिश में किसी भी तरह से सफल नहीं हो पाए।

Back to top button