दुश्मनों संभल जाओ – 83 तेजस, 15 हेलीकॉप्‍टर, 464 टैंक खरीदेगी इंडियन आर्मी, अब तुम्हारी खैर नहीं

नई दिल्ली – केंद्र सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए 82 हजार करोड़ रुपए के रक्षा खरीद प्रस्तावों को मंजूरी दे दी है। खास बात यह है कि इस बार ज्यादातर खरीद परियोजनाएं देश में निर्मित सामग्री की हैं। इसके साथ ही रक्षा सौदों में गड़बड़ी करने वाली कंपनियों को काली सूची में डाले जाने की नीति में बदलाव किया गया है। Defence Ministry approves procurement of Tejas.

नई नीति में कंपनियों पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाने के प्रावधान को हटाया गया है। सोमवार को हुई इस खरीद समिति की बैठक में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर भी मौजूद थे।

 Defence Ministry approves procurement of Tejas

83 तेजस, 15 हेलीकॉप्‍टर, 464 टैंक की खरीद –

सरकार के इस फैसले के तहत लड़ाकू विमान, टैंक, रॉकेट और छोटे ड्रोन खरीदे जाएंगे। परिषद ने वायुसेना के लिए देश में ही बनने वाले नई पीढ़ी के 83 तेजस विमानों की खरीद को सैद्धान्तिक मंजूरी प्रदान कर दी है। इन विमानों की कुल कीमत 50025 करोड़ होगी। इसके अलावा सेना एवं वायुसेना के लिए 15 हल्के लड़ाकू विमानों की खरीद को स्वीकार किया है।

598 मिनी UAV खरीदने के लिए हरी झंडी –

रक्षा मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक, इनमें थलसेना के लिए 464 टी-90 टैंक खरीदे जाएंगे। ये टैंक ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड (ओएफबी) से 13,448 करोड़ रूपये मे खरीदे जाएंगे। इसके अलावा थलसेना के लिए 1100 करोड़ रूपये कीमत के 598 मिनी यूएवी खरीदने के लिए हरी झंडी दी गई। तो वहीं थलसेना के लिए ही 14,633 करोड़ रूपये के 6 अतिरिक्त पिनाका मिसाइल की रेजीमेंट को मंजूरी दी गई है।

थलसेना के लिए 15 हेलीकॉप्टर्स को भी मंजूरी –  

परिषद ने वायुसेना के लिए 83 तेजस लड़ाकू विमानों के खरीदने के लिए मंजूरी दी। एचएएल से ये विमान आईडीडीएम यानि इंडियन डिजाइन डेवलेपड एडं मैन्युफेक्चर कैटेगरी के तहत 50 हजार करोड़ रूपये में खरीदे जाएंगे। इसके अलावा वायुसेना के लिए 10 लाइट कॉम्बेट हेलीकॉप्टर और थलसेना के लिए 15 हेलीकॉप्टर्स को भी मंजूरी दी गई है।

कालीसूची में बदलाव –

परिषद ने रक्षा कंपनियों को काली सूची में डालने की नई नीति तैयार की है। अभी तक की नीति के अनुसार यदि कोई रक्षा कंपनी भ्रष्टाचार आदि में लिप्त पाई जाती है या फिर उसके उपकरण खराब निकलते हैं तो उसे काली सूची में डाल दिया जाता था। उस कंपनी से कोई खरीद नहीं होती थी।

इस हफ्ते जापान की यात्रा पर जा रहे हैं पीएम मोदी –

जापान से खरीदे जाने वाले 12 यूएसटूआई एम्फिबियस विमानों पर हैरानी हुई। सूत्रों के मुताबिक, इस सौदे पर विचार तो हुआ लेकिन आखिरी फैसला अभी नहीं हुआ है। इसी हफ्ते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जापान की यात्रा पर जा रहे हैं। ऐसे मे माना जा रहा था कि इस सौदे पर मुहर लग सकती है। लेकिन इसपर अभी फैसला नहीं हुआ है।

गौरतलब है कि भारतीय सेना की पीओके में सर्जिकल-स्ट्राइक के बाद से पाकिस्तान ने सरहद पर भारत के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। पाकिस्तान की तरफ से लगातार युद्धविराम का उल्लंघन हो रहा है। भारतीय सेना भी पाकिस्तानी गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दे रही है और अबतक पाकिस्तान की 20 से भी ज्यादा पोस्ट तबाह कर चुकी है। जानकारों की मानें तो ये मिनी-वॉर जैसी स्थिति है। ऐसे में इस डील से निश्चित भारतीय सेना को भविष्य या वर्तमान कि युद्ध स्थितियों से निपटने में मदद मिलेगी और वे देश के हितों कि रक्षा अपनी सुरक्षा के साथ कर पाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.