केंद्रीय मंत्री का बड़ा बयान ‘एनडीए के कुछ लोग नहीं चाहते मोदी फिर बनें पीएम’

पिछले दिनों यदुवंशियों के दूध और कुशवंशियों के चावल से खीर बनाने की बात कहने वाले लोकसमता पार्टी के मुखिया और मोदी सरकार में मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने फिर से एक बड़ा बयान देते हुए कहा है कि एनडीए में कुछ लोग हैं जो नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनते नहीं देखना नहीं चाहते। उन्होंने कहा है कि 2019 लोकसभा में सीट बंटवारे को लेकर कुछ लोग भ्रम फैला रहे हैं, ताकि एनडीए में मतभेद पैदा हो जाए। कल यानि गुरूवार को खबर आई थी कि बिहार एनडीए में लोकसभा चुनाव को लेकर सीट बंटवारे का एक फॉर्मूला बीजेपी ने दिया है। जिसमें खुद बीजेपी 20 सीटों पर चुनाव लड़ेगी और जदयू को 12 सीट देने के विचार में है।

इसी फॉर्मूले को लेकर उनका आज बयान आया कि एनडीए के अंदर कुछ लोग हैं जो मोदी जी को फिर से प्रधानमंत्री बनते नहीं देखना चाहते, यही लोग जानबूझकर इस तरह की अफवाह फैलाते हैं। राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी के मुखिया उपेंद्र कुशवाहा का बयान ऐसे समय में आया है जब वो एनडीए में सीट बंटवारे को लेकर नाखुश बताए जा रहे थे। और उन्होने कुछ रोज पहले कहा भी था कि यदुवंशियों का दूध और कुशवंशियों का चावल मिल जाए तो अच्छी खीर बन सकती है, इस बयान के बाद राजनीतिक गलियारों में ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि उपेंद्र कुशवाहा एनडीए से अलग होकर महागठबंधन में शामिल हो सकते हैं।

पटना में एक संवाददात सम्मेलन के दौरान कुशवाहा ने कहा कि बंटवारे को लेकर सवाल किए जाने पर कुशवाहा ने कहा कि अभी कोई बैठक नहीं हुई है, कुछ भी तय नहीं हुआ है। किसी तरह का कोई विवाद नहीं है। उन्होंने कहा कि ऐसी खबरें एनडीए का नुकसान कर रही हैं। और ये खबरें एनडीए के ही कुछ लोग चला रहे हैं। खीर वाले बयान पर कुशवाहा ने कहा कि हमारी पार्टी पूरे बिहार में खीर यात्रा करेगी और सभी जाति के लोगों के साथ खीर खाया जाएगा। उन्होंने कहा कि मेरे साथ सिर्फ वही लोग होंगे जो खीर बनाएंगे और खाएंगे। ख्याली पुलाव बनाने वाले लोग बिल्कुल नहीं होंगे।

आपको बता दें कि वर्तमान में बिहार के 40 लोकसभा सीटों में 22 सांसद बीजेपी के हैं, जबकि जेडीयू, लोजपा और रालोसपा के पास क्रमशः दो, छह और तीन सीटें हैं। गुरूवार को खबर आई उसके मुताबिक 2019 के लोकसभा में बिहार में बीजेपी खुद 20 सीटों पर जबकि जेडीयू को 12+1 जिसमें 12 बिहार में और 1 सीट यूपी या झारखंड में देने का विचार बना रही है।