जानिये पत्थरबाजी करते हुए पकड़ी गईं कश्मीरी लड़कियों के साथ क्या करती है भारतीय सेना

जब से भारत के दो टुकड़े हुए हैं तब से कश्मीर का मुद्दा आज तक गर्म ही रहता है. कश्मीर दो देशों (भारत-पाकिस्तान) के बीच स्थित है, जिसमें ज्यादा हिस्सा भारत और कुछ पाकिस्तान के अंतर्गत आता है जो पाकिस्तानियों को मंजूर नहीं है और इसके पीछे आए दिन झगड़े होते रहते हैं. कश्मीर भारत का अभिन्न अंग माना जाता है जहां निश्चित रूप से लोगों को लडा़ई-झगड़े और जलना ही नजर आता है या फिर न्यूज में भी कश्मीर के बारे में बहुत सी अच्छी-बुरी बातें दिखाई जाती हैं. पिछले कई सालों से से कश्मीर में हो रही पत्थरबाजी से भारतीय सेना और सरकार लगातार मुश्किल में बनी हुई है. कुछ लोगों के लगातार पत्थरबाजी करने वालों की संख्या बढ़ने लगी है लेकिन भारतीय सेना को उनसे मुकाबला करने के लिए पूरी छूट ही नहीं मिलती है. सेना न तो उनके ऊपर गोली चला सकती है और ना ही उन्हें सामने से पत्थर मारकर रोक सकते हैं. उन पत्थरबाजों में लड़के और लड़कियां दोनों शामिल होते हैं. मगर पत्थरबाजी करते हुए पकड़ी गईं कश्मीरी लड़कियों के साथ क्या करती है भारतीय सेना, ये भी एक सवाल है.

भारतीय सेना अक्सर इस प्रयास में रहती है कि कश्मीर में शांति बनी रहे लेकिन पाकिस्तानी ऐसा होने नहीं देना चाहते इसलिए ही तो वहां के लड़के खासकर लड़कियों को पैसे देकर भारत के खिलाफ भड़का कर पत्थरबाजी करवाते रहते हैं. कई बार उस झगड़े की स्थिति इतनी बिगड़ जाती है कि सेना की तरफ से कई बार कार्यवाही करनी ही पड़ती है लेकिन अब भारतीय सेना के सामने जो एक सबसे बड़ी मुश्किल है वह यही होती है कि जो भी लड़कियां कश्मीर में पत्थरबाजी कर रही होती है उनको किस तरीके से रोका जाए. मगर वो लड़कियां जह नहीं मानती हैं तो सेना को मजबूरन उन लड़कियों को गिरफ्तार करके उन्हें अपने घर छो़ड़कर आना पड़ता है. किसी भी पुलिस वाले या आर्मी अफसर को ये अधिकार नहीं होता है कि वो उन्हें जेल मे बिना किसी वॉरेंट के के डाल दें लेकिन कई बार ऐसा भी हुआ है कि सेना अगर लड़कियों को गिरफ्तार करती है तो भारतीय संविधान और कानून इसकी अनुमति नहीं देता है और इसलिए भारतीय सेना लड़कियों के ऊपर कारवाई कोई कार्यवाही जल्दी ना करके उन्हें बचाने की कोशिश करते हैं.

अगर लड़कियों को पीटते हुए मीडिया में कोई भी तस्वीर सामने आ जाए तो सच में लोग अपनी छाती पीटने लगते हैं. जांच-पड़ताल के बाद ये पता लगाया जाता है कि उन पत्थरबाज लड़कियों को पाकिस्तान द्वारा पैसा लेकर काम किया है.

पत्थरबाजी के दौरान सेना ने अगर उन्हें गिरफ्तार कर लिया तो बहुत बडी बात होती है. क्योंकि उन्हें पत्थरबाजों पर कोई भी कार्यवाही करने का अधिकार नहीं होता है. सेना पहले उन लड़कियों को अरेस्ट करती है, फिर उनकी पूरी इंक्यॉरी लेती है और फिर बहुत समझाती है क्योंकि वे जो कर रही होती हैं वो गलत होता है. पुलिस उन्हें बताने और प्यार से समझाने की पूरी कोशिश करती है इसके बाद उनके माता-पिता को बुलाया जाता है और लड़की की जिम्मेदारी उनको देकर मुक्ति पाती हैं. सेना के लोग उन लड़कियों को समझाते हैं कि पैसा लेकर देश से गद्दारी करना सही नहीं होता. वे अगर सेना के ऊपर पत्थरबाजी करेंगी तो इससे उनका पूरा करियर खराब हो सकता है.. इसके बाद इन लड़कियों को उनके मां-बाप के हवाले किया जाता है.