आचार्य चाणक्य जी की यह 8 बातें बदल देंगी आपका जीवन, होगी मान सम्मान की प्राप्ति

आप लोगों ने आचार्य चाणक्य जी के बारे में तो सुना ही होगा आचार्य चाणक्य जी एक बहुत अच्छे नीतिकार थे इनके द्वारा बताई गई सभी बातें मनुष्य जाति के लिए बहुत ही फायदेमंद साबित हो रही हैं अगर इनकी बातों पर लोग अमल करें तो लोगों का जीवन बदल सकता है और वह अपने जीवन में कभी भी धोखा नहीं खाएंगे उनको जीवन जीने का सही तरीका पता लग जाएगा आज हम आपको इस लेख के माध्यम से आचार्य चाणक्य जी द्वारा बताई गई ऐसी 8 बातें बताने जा रहे हैं अगर आप इन बातों पर ध्यान देते हैं तो आप अपने जीवन में बहुत बड़ा बदलाव ला सकते हैं और समाज में आपका मान-सम्मान भी बढ़ेगा।

आइए जानते हैं आचार्य चाणक्य जी द्वारा बताई गई इन 8 बातों के बारे में

  • आचार्य चाणक्य जी का कहना है कि कभी भी मनुष्य को मूर्ख व्यक्तियों के साथ वाद-विवाद नहीं करना चाहिए क्योंकि मूर्ख व्यक्तियों के पास बिल्कुल भी समझदारी नहीं होती है अगर आप उनसे वाद-विवाद करेंगे तो आपको नुकसान पहुंच सकता है इसके साथ ही ऐसे लोगों से बहस करने से आपकी इज्जत भी कम होगी इसलिए अगर ऐसे लोग आपसे वाद विवाद करते हैं तो आप चुप रहे उनसे बहस ना करें आपको विवेक से काम लेना चाहिए।
  • व्यक्ति को अपनी कमजोरियां भूल कर भी किसी को भी नहीं बतानी चाहिए, चाहे व्यक्ति कितना भी खास क्यों ना हो चाहे आपका कोई नजदीकी रिश्तेदार क्यों ना हो, अगर आप अपनी कमजोरियों को बताते हैं तो आपको भारी नुकसान झेलना पड़ सकता है क्योंकि हो सकता है आगे चलकर वह व्यक्ति आपकी कमजोरियों का फायदा उठा ले।

  • आचार्य चाणक्य जी का कहना है कि व्यक्ति के पास सुख सुविधा धन वैभव होने के बावजूद भी कोई ऐसी गलती कर देते हैं जिसकी वजह से उनका स्वर्ग जैसा जीवन नर्क की तरह बन जाता है यह सिर्फ एक दोष की वजह से होता है चाहे आपके अंदर कितने भी गुण मौजूद क्यों ना हो आपका व्यवहार कितना भी अच्छा क्यों ना हो परंतु आपका एक दोष आपकी सारी अच्छाइयां खत्म कर देता है इसलिए मनुष्य को हमेशा गलत कार्य जैसे नशा करना घमंड करना जुआ खेलना इन सभी चीजों से दूर रहना चाहिए।
  • आचार्य चाणक्य जी का कहना है धन ही जीवन होता है बिना धन के हम बिल्कुल कंगाल हैं अगर व्यक्ति के पास धन नहीं होता तो उसकी कोई भी इज्जत नहीं करता है ना ही उसको सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है इसलिए व्यक्ति के जीवन में धन बहुत अहम भूमिका निभाता है कई लोग ऐसे होते हैं जो धन का दुरुपयोग करते हैं वह खून पसीने से कमाई गई पूंजी को बिना सोचे समझे इधर-उधर खर्च कर देते हैं बहुत से लोग ऐसे हैं जो दिनभर मजदूरी करते हैं और शाम के समय मदिरा का सेवन करके अपनी कमाई को बर्बाद कर देते हैं अगर धन को बर्बाद करना ही है तो मेहनत करने से क्या फायदा, इसलिए अगर आपके पास धन है तो उसका सही इस्तेमाल करें कभी भी व्यर्थ में धन की बर्बादी ना करें।

  • आचार्य चाणक्य जी का कहना है कि हर मनुष्य के अंदर बदनामी का डर होना चाहिए अगर यह डर खत्म हो गया तो दुनिया बदहाल हो जाएगी जीवन का सबसे बड़ा दुख बदनाम होना माना गया है यह व्यक्ति को जीते जी खत्म कर देती है इसलिए आप अपने जीवन में ऐसा कोई भी कार्य ना करें जिससे आपको बदनामी का सामना करना पड़े।
  • आचार्य चाणक्य जी का कहना है कि व्यक्ति को अपने जीवन में कभी भी आलस नहीं करना चाहिए अगर आप अपने जीवन में आलस करेंगे तो आप कभी भी एक सफल व्यक्ति नहीं बन पाएंगे इसलिए अगर आप अपना जीवन खुशहाल बनाना चाहते हैं तो आलस को त्याग दीजिए और अपने जीवन में मेहनत करना सीखिए क्योंकि आलसी व्यक्ति का कोई भी वर्तमान और भविष्य नहीं होता है।
  • आचार्य चाणक्य जी का कहना है कि आप किसी भी बात को बिना सुने भरोसा मत कीजिए क्योंकि बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो इधर-उधर की बातें करते रहते हैं और गलत जानकारी देकर विवाद करवा देते हैं इसलिए आपको ऐसे लोगों से बचना चाहिए जब तक आप अपने कानों से कोई बात ना सुने तब तक किसी बात पर भरोसा ना करें।
  • आचार्य चाणक्य जी का कहना है कि कभी भी आप उन व्यक्तियों से दोस्ती मत कीजिए जो आपसे कम या ज्यादा प्रतिष्ठित है क्योंकि ऐसी दोस्ती कभी भी आपको खुशी नहीं देगी जो व्यक्ति आपसे कम प्रतिष्ठित हैं उनसे अगर आप दोस्ती करेंगे तो हमेशा परेशानी में रहेंगे क्योंकि ऐसे दोस्त आपसे हमेशा सहायता की उम्मीद रखते हैं और आपका फायदा उठाना चाहते हैं अगर आप अधिक प्रतिष्ठित व्यक्तियों से दोस्ती करेंगे तो आप हमेशा अपने मित्र के साथ अपनी तुलना में लगे रहेंगे और आपके अंदर ईर्ष्या का भाव रहेगा आप खुद को हमेशा छोटा समझेंगे जो आत्म सम्मान के लिए ठीक नहीं होता है इसलिए आप अपनी बराबरी के लोगों से दोस्ती करें।