अध्यात्म

सावन में हर सोमवार का होता है खास महत्व, भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए करिए ये काम

28 जुलाई (शनिवार) यानि आज से श्रावस मास की शुरुआत हो गई है. ऐसा माना जा रहा है कि इस बार 100 सालों के बाद सावन पर ऐसा संयोग बन रहा है. इसमें अगर शिवभक्त इस एक विधि शिवजी की पूजा करें तो भगवान शिव जरूर मेहरबान होंगे और आपकी सभी परेशानियां दूर होकर मनोकामनाएं पूरी होंगी. बड़े ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, इस बार सावन शनिवार से शुरु हो रहा है वो भी आमवस्या के दिन. इसे बहुत ही शुभ माना जाता है. ये संयोग 100 सालों में एक बार ही बनता है. पंचांग के अनुसार, इस बार का सावन 30 दिन का है जिसमें 4 सोमवार पड़ेंगे. कृष्ण पक्ष 14 दिनों का और शुक्ल पक्ष 16 दिनों का है, जिसमें आप भगवान शिव का रुद्राभिषेक आसानी से करवा सकते हैं और जिनके ऊपर साढ़े साती चल रहे हैं उन्हें तो रुद्राभिषेक मुख्य रूप से करवा लेना चाहिए. सावन में हर सोमावार का होता है खास महत्व, शिवजी का दिन होता है सोमवार, ऐसे में पूजा की हर विधि का पता होना चाहिए.

सावन में हर सोमावार का होता है खास महत्व

हिंदू धर्म में श्रावण मास को पावन मास भी कहा जाता है. वैसे तो इस महीने का हर दिन खास होता है लेकिन इस महीने में पड़ने वाले त्योहारों और सोमवार का खास महत्व होता है. सावन के महीने में पड़ने वाले सोमवार भगवान शिव को अतिप्रिय होते हैं. शास्त्रों के अनुसार सोमवार को भगवान शिव की पूजा अराधना के लिए विशेष विधियों की व्याख्या की गई है तो चलिए बताते हैं हर सोमवार का क्या है खास महत्व…

1. पहला सोमवार

सावन का पहला सोमवार हर दृष्टि से श्रद्धालुओं के लिए विशेष फल प्राप्ति करने वाला होगा. इस साल सावन का पहला सोमवार एक साथ दो शुभ योग लेकर आ रहा है. इस योग में भगवान शिव की पूजा-आराधना करने से श्रद्धालुओं की हर बाधा दूर होगी और उसके द्वारा बनाई गई योजनाएं पूरी होंगी. मगर इसके लिए आपको भगवान शिव की सच्चे मन से अराधना करनी होगी.

2. दूसरा सोमवार

सावन महीने के दूसरे सोमवार का भी विशेष महत्व है. ज्योतिषीयों के अनुसार इस साल सावन मास का दूसरा सोमवार श्रद्धालुओं के लिए विशेष फलदायक लेकर आ रहा है. इस दिन भगवान शिव की पूजा-आराधना करने वाले श्रद्धालुओं को अच्छा स्वास्थ्य और बल का आशीर्वाद प्राप्त होने वाला है लेकिन इसके लिए आपको शिवजी की सच्चे मन से अराधना करनी होगी.

3. तीसरा सोमवार

भगवान शंकर की पूजा-अर्चना करने वालों के लिए सावन का महीना बहुत पवित्र है. ये सावन का तीसरा सोमवार है जिसमें शिवजी की पूजा करने से आपके कठिन काम बिना किसी हस्तक्षेप के होंगे. विद्वानों के अनुसार सावन का तीसरा सोमवार साधना और भक्ति के लिए सबसे उत्तम माना जाता है. श्रद्धालु इस दिन भगवान शिव के मंत्रों का जाप करके मंत्र सिद्धि की प्राप्ति भी कर सकते हैं.

4. चौथा सोमवार

सावन के महीने का चौथा सोमवार ही अंतिम सोमवार होगा. इसमें श्रद्धालुओं के आर्थिक कष्टों का निवारण भगवान शिव की कृपा से होगा. सावन के चौथे सोमवार को भगवान शंकर की आराधना करने से आप अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त करेंगे. दूसरी ओर कार्यक्षेत्र में आपको उपलब्धता मिलेगी और जीवन के दूसरे पड़ावों में आने वाली हर बाधाओं का भी निवारण निश्तिरूप से होगा.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close