इस वजह से सावन के महीने में महिलाएँ पहनती हैं हरे रंग की चूड़ियाँ, वजह जानकर हो जाएँगे दंग

भारत हो या विश्व का कोई भी देश महिलाओं को सजने सँवरने का बहुत शौक़ होता है। सजने-सँवरने के लिए महिलाएँ कई चीज़ों का इस्तेमाल करटी हैं। बिंदी, चूड़ी, कांगन, मेहंदी आदि का इस्तेमाल कई देशों की महिलाएँ सजने के लिए करती हैं। लेकिन क्या आपने एक बात पर ध्यान दिया है कि भारत की महिलाएँ ख़ास मौक़ों पर ख़ास रंग की चूड़ियाँ पहनती हैं। जैसे सावन का महीना शुरू होते ही महिलाएँ हरे रंग की चूड़ियाँ पहनने लगती हैं। आपने देखा तो ज़रूर होगा लेकिन इसपर कभी ग़ौर नहीं किया होगा।

आपको तो यह पता ही है कि सावन का महीना भगवान शिव का सबसे प्रिय महीना होता है। इस महीने में भगवान शिव बहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं। इसी वजह से सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा ख़ासतौर पर की जाती है, लोग सैकड़ों किलोमीटर की दूरी तय करके भगवान शिव को जाल अर्पित करते हैं। भगवान शिव के बारे में कहा जाता ही कि ये जिसके ऊपर प्रसन्न हो जाते हैं, उसके जीवन की सभी परेशानियों को हमेशा के लिए दूर कर देते हैं। इसके साथ ही सावन के महीने में सोमवार को व्रत रखने से मनचाही इच्छा पूरी हो जाती है।

सावन के महीने की बात ही अलग होती है। हल्की-हल्की बारिश की बूँदे किसी के भी मन में रोमांस जगा सकती हैं। ख़ासतौर से बात महिलाओं की हो तो उनके अंदर रोमांस भरा होता है। बारिश की बूँदे चेहरे पर पड़ते ही मैन प्रसन्न हो जाता है। महिलाएँ ऋंगार करके अपने पतियों को रिझाने का भी काम करती हैं। सावन के मौसम में हरा रंग पहनकर हम प्रकृति के क़रीब ही नहीं रहते हैं बल्कि प्रकृति को आभार भी व्यक्त करते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि हरा रंग क़िस्मत को भी प्रभावित करता है।

सावन में हरा रंग इसलिए है महत्वपूर्ण:

*- शादीशुदा जीवन में ख़ुशहाली के लिए:

यह आपको बताने की ज़रूरत नहीं है कि हर व्यक्ति के जीवन में हरे रंग का क्या महत्व है। हरा प्रकृति का रंग है और पृथ्वी पर जो कुछ भी मिला है, वह प्रकृति की वजह से ही मिला हुआ है। महिलाएँ सावन में हरे रंग की चूड़ी इसीलिए पहनती हैं ताकि भगवान शिव प्रसन्न हो सकें। इससे भगवान शिव का आशीर्वाद मिलता है और पतियों की उम्र लम्बी होती है।

*- बेहतर भविष्य के लिए:

व्यक्ति के कैरियर से बुध ग्रह का जुड़ाव होता है और बुध ग्रह को हरा रंग बहुत ज़्यादा पसंद होता है। इसी वजह से बुध ग्रह को ख़ुश करने के लिए लोग और महिलाएँ सावन में हरे रंग का ज़्यादा से ज़्यादा इस्तेमाल करती हैं। इससे व्यक्ति को हर क्षेत्र में कामयाबी मिलती है।

*- सौभाग्य प्राप्ति के लिए:

भगवान शिव हमेशा प्रकृति के क़रीब रहे, इसलिए उन्हें हरा रंग बहुत ज़्यादा पसंद है। जो लोग हरा रंग सावन के महीने में धारण करते हैं भगवान शिव की उनके ऊपर विशेष कृपा होती है। महिलाएँ कई अन्य कारणों से भी हरा रंग धारण करती हैं।

*- प्रकृति का आभार व्यक्त करने के लिए:

सदियों से मनुष्य अनेक रूपों में प्रकृति की पूजा करता रहा है। हिंदू धर्म में पेड़ों की पूजा का बहुत पहले से रिवाज है। हरा रंग भी प्रकृति का प्रतीक है। इसी वजह से लोगों का मानना है कि हरा रंग पहनकर प्रकृति के प्रति आभार व्यक्त किया जा सकता है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.