दिलचस्प

दबाकर टूथपेस्ट निकालने से बड़े साइज़ के कपड़े लेने तक, मिडिल क्लास को खास बनाती हैं ये 10 बातें

हम सभी ने बचपन में ये कुछ बातें जरूर कही होंगी, जैसे- मम्मी ये शर्ट बड़ी हो रही है, कोई नहीं तू भी अब बड़ा ही हो रहा है तो अब दो-तीन साल कोई शर्ट नहीं लेनी पड़ेगी. अगर आपका जन्म भी मिडिल क्लास फैमिली में हुआ है तो आपकी मम्मी से भी आपको कई बातें हर बच्चों की तरह सुननी पड़ी होगी. मिडिल क्लास फैमिली में खास बात ये होती है कि वहां अगर आपको अपनी इच्छाओं को मारना होता है तो उन इच्छाओं के लिए अपने माता-पिता को संघर्ष करते भी देखना भी अलग अहसास करवाता है. प्यार और डांट से के साथ ही मिडिल क्लास फैमिली के बच्चे पलते-बढ़ते हैं. मगर दबाकर टूथपेस्ट निकालने से लेकर बड़े साइज़ के कपड़े लेने तक, ये सभी बातें हम बचपन से ही देखते आते हैं फिर इसकी हमें आदत सी बन जाती है. तो चलिए बताते हैं आपको मिडिल क्लास फैमिलीज की 10 खास बातें..

दबाकर टूथपेस्ट निकालने से लेकर बड़े साइज़ के कपड़े लेने तक

1. घर में जब एक साबुन खत्म होता था तब उसी में एक नया साबुन भी चिपका दिया जाता था. फिर हम कहते थे, ‘अरे, वाह साबुन ज्यादा हो गया’.

2. बचपन में जब भी हमारे माता-पिता हमारे लिए कपड़े लेने जाते थे तो अगर हम 10 साल के हैं तो वे हमारी उम्र 13 साल बढ़ाकर ही बताते थे. फिर जब हम उस कपड़े को बड़ा कहते तो मम्मी कहतीं, ‘कोई बात नहीं बेटा अब दो-तीन साल की फुर्सत.’

3. अगर हमारे घर में कोई फंक्शन होता और गिफ्ट्स आते तो उन्हें रख दिया जाता था ये कहकर, ‘किसी और को देने में काम आएंगे.’ फिर वे गिफ्ट्स धीरे-धीरे किसी और को देने में खत्म किये जाते थे.

4. वैसे तो मिडिल क्लास फैमिलीज में शैंपू की बोतल कम और पाउच ज्यादा आते हैं लेकिन अगर महीने के सामान में कोई बोतल आ गई तो जब वो खत्म होती थी तब उसमें पानी भरकर हमें लगाना होता था. मतलब शैंपू की पा-पाई वसूल ली जाती थी.

5. बचपन में जब हमारे घर में कोई रिलेटिव आते थे और वे हमें जो पैसे दे जाते थे वे कभी हमारे कभी नहीं होते थे. रिवेटिव के जाने पर उन पैसों पर हमारा हक खत्म हो जाता था और हमें वे पैसे मम्मी या दादी को देने होते थे.

6. मिडिल क्लास फैमिली वालों में ज्यादातर लोग जब किसी होटल से चेकआउट करते हैं तो आज भी वे शैंपू और साबुन उठाना नहीं भूलते हैं.

7. टूथपेस्ट खत्म हो जाने पर जब मम्मी से बोलो कि टूथपेस्ट खत्म हो गया है. तो उधर से जवाब आना कि तोड़-मरोड़ कर उसमें से निकाल लो थोड़ा पेस्ट तो निकल ही जाएगा.

8. अगर घर में कोई नई क्रॉकरी आई है तो उसे तब तक नहीं खोला जाता था जब तक घर में कोई नया मेहमान ना आ जाए.

9. कोल्ड ड्रिंक्स की जब भी नई और बड़ी बोतल आती है तो उसके खत्म होने के बाद उसमें पानी भरकर लगा दी जाती है.

10. टीवी के रिमोट को पॉलिथीन से लपेटकर रखने की जिम्मेदारी घर के बच्चों पर होती थी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close