शहीद मनदीप से बर्बरता पर शहीद की पत्नी ने कहा – पाकिस्तान को समझाओ या खत्म करो

नई दिल्ली:  भारत-पाक सीमा पर जम्मू-कश्मीर में पाक की कार्रवाई का जवाब देते हुए भारतीय सेना के 17-सिख रेजीमेंट के कुरुक्षेत्र जिले के गांव अंटेली के जवान मनदीप सिंह की शहादत की खबर मिलते ही जहां पूरा परिवार गम में डूब गया, वहीं सांत्वना देने पहुंचे गांव के सभी पूरी तरह से आक्रोशित दिखे। पाकिस्तान की शह पर आतंकियों ने जो बर्बरता की है उससे पूरा देश गुस्से में है। साथ ही सरकार ने भी कह दिया है कि इस कायराना हरकत का पूरा जवाब दिया जाएगा। Mandeep Martyr wife. शहीद मनदीप पत्नी.

mandeep-singh-newstrend-29-10-16-1

पति की शहादत पर बोली पत्नी –  

शहीद मनदीप की पत्नी ने कहा कि अब पाकिस्तान के साथ आरपार की लड़ाई हो जानी चाहिए। केंद्र सरकार को चाहिए कि पाकिस्तान को ठीक से समझा दे और नहीं समझता है तो उसे नेस्तनाबूद कर दे, कम से कम रोज-रोज तो सभी की काली दीपावली तो नहीं होगी। पाकिस्तान को किसी भी सूरत में माफ नहीं करना चाहिए।  कम से कम एक बार फैसला हो जाए, हर रोज किसी की दिवाली तो काली नहीं होगी।

आतंकियों ने शहीद के शव के साथ की बर्बरता –

शहीद के शव के साथ आतंकियों ने बर्बरता की। आतंकियों ने भागने से पहले शहीद जवान के शव को क्षत-विक्षत कर दिया। सिर भी काट दिया। इस दौरान पाक आर्मी की पोस्ट से आतंकियों को कवर फायर दिया जा रहा था। हालांकि इंडियन आर्मी ने शहीद का सिर काटे जाने की पुष्टि नहीं की है। लेकिन कहा कि बर्बरता का बदला लेंगे।

17 सिख रेजिमेंट में तैनात था मनदीप –

प्राप्त जानकारी के अनुसार कुरुक्षेत्र के अंटेड़ी गांव वासी मनदीप 17 सिख रेजिमेंट में सिपाही के पद पर तैनात था। शहीद की पत्नी हरियाणा पुलिस में कार्यरत है। वहीं, गांव में इस मामले की जानकारी देर रात को परिजनों को मिली।

गौरतलब है कि पाकिस्तान की ओर से एल.ओ.सी. और इंटरनेशनल बॉर्डर पर शुक्रवार को दिनभर फायरिंग होती रही। चौकियों और गांवों को निशाना बनाया गया। बॉर्डर पर 30 और एल.ओ.सी. पर 10 से अधिक चौकियों पर फायरिंग की गई। इन घटनाओं में एक महिला समेत 2 की मौत हो गई।

मनदीप की शहादत पर नहीं मनेगी दीवाली (Mandeep Martyr wife) –

मनदीप की शहादत पर गांव के लोगों का कहना है कि उन्हें मनदीप पर गर्व है। साथ ही लोगों में गम और गुस्सा भी है। गांव के लोगों ने इस बार दीवाली न मनाने की घोषणा भी कर दी है। डी.सी. सुमेधा कटारिया गांव के शहीद की सुचना मिलते ही मौके पर पहुंच गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!