यहां शादी से पहले ही बच्चा पैदा करने की है परंपरा, मेले में ही लड़का पसंद कर भाग जाती है लड़की

आज भले ही हम मॉर्डन इंडिया की बात करते हो, लेकिन हमारे समाज में आज भी कुछ चीजे किसी पाप से कम नहीं होती है। जिनमें से प्यार करना, लिव इन रिलेशनशिप में रहना वगैरा वैगरा सब चीजें शामिल होती हैं, लेकिन अगर हम यहां कहे कि भारत में ही एक ऐसी जगह है, जहां ये सारी चीजें खुलेआम होती हैं, तो शायद आप यकीन नहीं करेंगे। परंपराएं हर जगह अलग होती हैं, लेकिन कुछ जगह की परंपराएं आपको हैरान कर देती हैं। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए क्या खास है?

भारत का ऐसा गांव जहां लिव इन रिलेशनशिप में रहना पाप नहीं बल्कि परंपरा मानी जाती है। शादी से पहले बच्चा करना भी कोई गुनाह नहीं बल्कि अपनी इच्छा होती है। यहां लड़कियों को पूरा अधिकार होता है कि वो अपने पार्टनर को समझने के बाद ही शादी  के लिए हां करे, लेकिन आमतौर हमारे समाज में ये सारी बाते काफी हैरानीपूर्वक लगती हैं।

खबर के मुताबिक, 70 साल की एक महिला नानिया गरासिया ने 60 साल के पुरुष काली से शादी की, लेकिन हैरानी की बात तो ये थी कि वो दोनों सालों से लिव इन में रह रहे थे और इनके तीन बच्चे भी है। आपको हैरानी होगी कि इनके तीन बच्चे लिव इन रिलेशनशिप के दौरान ही हुए। साथ ही आपको यह भी बता दें कि इस गांव में लड़कियों को शादी से पहले लिव इन रिलेशनशिप में रहने की पूरी आजादी है।

राजस्थान के उदयपुर की है ये मान्यता

बता दें कि जब नानिया और काली की शादी हुई, उसी दिन उनके तीनों बेटों ने भी अपनी लिव-इन पार्टनर्स से शादी की। मतलब साफ है कि यहां जब तक आप चाहे रिलेशनशिप में रह सकते हैं। जब तक आप अपने पार्टनर के साथ शादी नहीं करना चाहते हैं, तब तक आप रिलेशनशिप में एक छत के नीचे रह सकते हैं। राजस्थान के उदयपुर के सिरोही और पाली जिले में गरासिया नामक जनजाति की लड़कियों को शादी से पहले बच्चा पैदा करने के लिए कहा जाता है।

बताते चलें कि गरासिया जनजाति में यह परंपरा करीब 1000 साल से चली आ रही है। यहां लिव इन रिलेशनशिप के दौरान अगर बच्चा हो जाता है, तो यह लड़की के ऊपर डिपेंड होता है कि वो शादी करेंगी या नहीं। इससे न तो उनके परिवार वालों को आपत्ति होती है और न ही किसी को भी। इनकी मान्यता है कि अगर शादी वंश चलाने के लिए की जाती है, तो बच्चा पैदा नहीं होता है, लेकिन अगर रिलेशनशिप में रहते हैं तो बच्चा पैदा हो जाता है।

मेले में ही लड़की लड़का पसंद करके जाती है भाग

जी हां, इस समाज की अनोखी परंपरा है। राजस्थान और गुजरात में इस समाज का दो दिन का मेला लगता है, जिसमें लड़का-लड़की मिलतें हैं और भाग जाते हैं, भागने के बाद वे पति-पत्‍नी की तरह रहने लगते हैं। इस प्रथा को दापा प्रथा के नाम से जाना जाता है। यहां के लोगों का मानना है कि दो लोग को अपना जीवनसाथी चुनने का पूरा अधिकार है, उसमें न तो परिवार और न ही समाज को दखल देना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.