भारत के थोड़े नुकसान के लिए खुद को पूरा बर्बाद करने पर तुला पाक!

इस्लामाबाद/नई दिल्लीः भारत के साथ व्यापार जारी रखने या रोकने पर पाकिस्तान विचार करने जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तानी व्यापार पर नजर रखने वाली संस्था ने ऐलान किया है कि अगर दोनों देशों के बीच कायम संघर्षपूर्ण माहौल में सुधर नहीं होता है तो वह भारत के साथ व्यापार पर रोक (निलंबित) लगा सकता है।  भारत पाकिस्तान व्यापार, India-Pakistan trade. 

 

भारत पाकिस्तान व्यापार-  भारत के साथ व्यापार बंद करने पर विचार कर रहा पाक –

पाकिस्तानी न्यूजपेपर डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान वाणिज्य एवं उद्योग मंडल महासंघ (एफपीसीसीआई) के अध्यक्ष अब्दुल रऊफ आलम ने गुरुवार को कहा कि पाकिस्तान पर मौजूदा प्रतिकूल परिस्थितियों में भारत के साथ व्यवसाय और व्यापारिक संबंधों को जारी रखने की किसी भी प्रकार की कोई बाध्यता नहीं है।

उन्होंने आगे कहा कि, ‘पाकिस्तान का पूरा व्यावसायिक समुदाय कोई भी फैसला लेने पर एकमत है और इलाके में खींचतान की स्थिति को देखते हुए भारत के साथ व्यापारिक रिश्ते कायम रखना संभव नहीं है।’

 

भारत पाकिस्तान व्यापार- भारत पाक के बीच मौजूदा हालात व्यापार के लिए खतरनाक –  

दोनों देशों के बीच कारोबार स्मगलिंग और राउंड ट्रिपिंग जैसे नॉन-ऑफिशल चैनल्स से भी होता है। सूत्रों के अनुसार इस तरह की आवाजाही करीब 6 अरब डॉलर सालाना तक की है। एक स्टडी के मुताबिक, अगर कुछ बाधाओं को हटा दिया जाए तो दोनों देशों के बीच व्यापार 42 अरब डॉलर तक जा सकता है। कारोबारी संबंधों में सुधार की राह में सबसे बड़ी बाधा अस्थिर राजनीतिक संबंध रहे हैं। दोनों देशों के कई कारोबारियों का दावा है कि कारोबारी नियम ‘उचित नहीं हैं।

भारत पाकिस्तान व्यापार- पाक की ओर से व्यापार रोकने से लगेगा भारत को झटका –

सार्क चैंबर ऑफ कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्री की भूमिका का जिक्र करते हुए एफपीसीसीआई के अध्यक्ष अब्दुल रऊफ आलम ने कहा कि ECO (इकनॉमिक कॉपरेशन ऑर्गनाइजेशन) और D-8 (डिवेलपिंग-8) देशों के साथ व्यापारिक रिश्ते को बढ़ावा देने के उनके सामने कोई अन्य  विकल्प नहीं है।

इकनॉमिक कॉपरेशन ऑर्गनाइजेशन का गठन साल 1985 में पाकिस्तान और तुर्की ने मिलकर किया था। साल 1992 तक इसमें सात अन्य देश शामिल हो गए। ये सात देश अफगानिस्तान, अजरबैजान, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान और उज्बेकिस्तान हैं। वहीं, डिवेलपिंग 8 या D-8 देशों में पाकिस्तान के अलावा बांग्लादेश, मिस्त्र, इंडोनेशिया, ईरान, मलयेशिया, नाइजीरिया और तुर्की भी शामिल हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.